Image Loading Sevadar works for Grand Light Festival in Patna Sahib - LiveHindustan.com
मंगलवार, 27 सितम्बर, 2016 | 05:43 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • झारखंड: खूंटी के अड़की में नक्सलियों ने की तीन लोगों की हत्या, दो अन्य घायल
  • हमने दोस्ती चाही, पाकिस्तान ने उरी और पठानकोट दिया: सुषमा स्वराज
  • पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को सुषमा का जवाब, जिनके घर शीशे के हों वो...
  • सयुंक्त राष्ट्र में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने हिंदी में भाषण शुरू किया
  • अमेरिका: हयूस्टन के एक मॉल में गोलीबारी, कई लोग घायल, संदिग्ध मारा गया: अमेरिकी...
  • सिंधु जल समझौते पर सख्त हुई सरकार, पाकिस्तान को पानी रोका जा सकता है: TV Reports
  • सेंसेक्स 373.94 अंकों की गिरावट के साथ 28294.28 पर हुआ बंद
  • जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में ग्रेनेड हमला, CRPF के पांच जवान घायल
  • सीतापुर में रोड शो के दौरान कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर जूता फेंका गया।
  • कानपुर टेस्ट जीत भारत ने पाकिस्तान से छीना नंबर-1 का ताज
  • KANPUR TEST: भारत ने जीता 500वां टेस्ट मैच, अश्विन ने झटके छह विकेट
  • 'ANTI-INDIAN TWEETS' करने पर PAK एक्टर मार्क अनवर को ब्रिटिश सीरियल से बाहर कर दिया गया। ऐसी ही...
  • इसरो का बड़ा मिशन: श्रीहरिकोटा से PSLV-35 आठ उपग्रहों को लेकर अंतरिक्ष के लिए हुआ...
  • सुबह की शुरुआत करने से पहले पढ़िए अपना भविष्यफल, जानें आज का दिन आपके लिए कैसा...
  • हिन्दुस्तान सुविचार: मैं ऐसे धर्म को मानता हूँ जो स्वतंत्रता , समानता और ...

प्रकाशोत्सव को भव्य बनाने में जुटे हैं सेवादार

पटना। विकास कुमार First Published:23-09-2016 06:18:00 PMLast Updated:23-09-2016 10:12:25 PM

गुरु नगरी का माहौल बदला-बदला सा है। प्रकाशोत्सव की तैयारियां जोरों पर है। पटना साहिब के अलावा पंजाब से आए सेवादार इसे भव्य बनाने में जुटे हैं।

कई तो अपनी नौकरी और व्यवसाय छोड़ पिछले एक महीने से बाल लीला गुरुद्वारा के गेट निर्माण कार्य में लगे हैं। बाज सिंह का अमृतसर के पास व्यवसाय है। वे यहां अगस्त से ही हैं। बाल लीला गुरुद्वारा के पास 50 फुट ऊंचे गेट के निर्माण में सेवा दे रहे हैं। इसी तरह निर्मल सिंह और नवतेज सिंह भी इन्हीं के साथ आए हैं। ये भी प्रकाशोत्सव को भव्य बनाने के लिए अपनी सेवा दे रहे हैं। इनके साथ 30 लोगों का जत्था सेवा करने आया है। इनका कहना है कि एक माह सेवा के बाद हमलोग घर जाएंगे। उसके बाद प्रकाशोत्स्व में आएंगे।

तैयारियों के बारे में जाना : गुरु की नगरी पटना साहिब में 5 जनवरी 2017 को 350वां प्रकाश पर्व आयोजित होगा। इसे लेकर तैयारियां जोरों पर है। अंतरराष्ट्रीय सिख कॉन्क्लेव में शामिल होने विभिन्न जगहों से आए लोग श्री गुरुगोविंद सिंह जी की जन्मस्थली पटना साहिब में मत्था टेककर प्रकाश पर्व को लेकर हो रही तैयारियों के बारे में जानकारी ले रहे हैं।

बाललीला गुरुद्वारा आकर्षण का केंद्र

सिख कॉन्क्लेव में आए लोगों ने तख्तश्री हरिमंदिरजी में मत्था टेकने के बाद बाललीला गुरुद्वारा का भ्रमण किया। बाललीला गुरुद्वारा को मैनी संगत भी कहा जाता है। यह तख्त साहिब से 200 मी. दक्षिण में स्थित है। प्रकाशोत्सव के मद्देनजर यहां हो रहे निर्माण कार्य अंतिम चरण में हैं। श्रद्धालुओं के लिए डीलक्स एसी कमरे बनाए जा रहे हैं।

बाल लीला गुरुद्वारे में गुरुजी ने बचपन में कई चमत्कार किए थे। कारसेवा वाले संत बाबा कश्मीर सिंह भूरिवाले के अनुयायी बाबा गुरविंदर सिंह बताते हैं कि फतेहचंद मौनी एक स्थानीय राजा थे। इनकी कोई संतान नहीं थी। गुरुजी (गोविंद राय) खेलने के दौरान रोजाना इनके महलों में जाते थे। रानी विशंभरा देवी गुरुजी जैसे बालक का संकल्प करती हुई प्रभु की रोजाना प्रार्थना करती थी। गुरुजी एक दिन रानी की गोद में जाकर बैठ गए और मां कहकर पुकारा। रानी तृप्त हुई और गुरुजी को धर्म पुत्र स्वीकार कर लिया। गुरुजी को खेलते-खेलते भूख लगी तब रानी ने उबले हुए चने की घुघनी व पुड़ी बच्चों को खिलाया। आज भी यहां आने पर घुघनी का प्रसाद मिलता है। इस गुरुद्वारा का प्रबंध निर्मल संपद्राय के अधीन है।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: Sevadar works for Grand Light Festival in Patna Sahib
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड