सोमवार, 25 मई, 2015 | 10:56 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    ये हैं मोदी सरकार की 25 बड़ी उपलब्धियां और 25 चुनौतियां सेक्सी नहीं, फाइटर के रूप में पहचान चाहती हैं रोसी रामपुर: ट्रांसफार्मर में आग लगने से मची भगदड़ CBSE 12वीं का रिजल्ट आज, गणित में मिलेंगे ग्रेस मार्क्स नोबेल पुरस्कार विजेता मशहूर अर्थशास्त्री जॉन नैश का निधन अब ओपन कैबिनेट मीटिंग कैसे कर पाएंगे अरविंद केजरीवाल मथुरा में आज मोदी की रैली, धमकी देने वाला गिरफ्तार आईपीएल 8 में लगातार चार मैच हार चुकी थी मुंबई इंडियंस, और फिर... मोदी सरकार को केजरीवाल से एलर्जी: सिसोदिया  चेन्नई सुपरकिंग्स को हराकर मुंबई इंडियन्स बना आईपीएल चैम्पियन
पहले दौर की बोली में सबसे महंगे बिके सरदार
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:16-12-12 05:02 PMLast Updated:16-12-12 09:51 PM
Image Loading

अगले महीने 16 जनवरी से होने वाली पहली हॉकी इंडिया लीग के लिए खिलाड़ियों की नीलामी रविवार को शुरू हो गई जिसमें भारतीय कप्तान और स्टार मिडफील्डर सरदार सिंह पहले दौर में सबसे महंगे बिके। उन्हें दिल्ली वेवराइडर्स फ्रेंचाइजी ने 78000 डालर में खरीदा।
 
पहले दौर में सबसे हैरानी हुई जब स्टार ड्रैग फ्लिकर संदीप सिंह के लिए किसी ने बोली नहीं लगाई। उन्हें 27800 की बेसप्राइज पर मुंबई मैजिशियंस ने खरीदा जिसके कोच ऑस्ट्रेलिया के रिक चार्ल्सवर्थ है। आइकन खिलाड़ी होने के नाते हालांकि संदीप को अपनी टीम के सबसे महंगे खिलाड़ी से 15 प्रतिशत अधिक भुगतान होगा। पहले दौर में कुल 246 में से 28 खिलाड़ियों की बोली लगी जिनमें से तीन को किसी से नहीं खरीदा।

पहले दौर में सबसे महंगे बिके सरदार ने कहा कि पहली बार हॉकी में इस तरह की चीज देख रहा हूं और बहुत मजा आ रहा है। मुझे खुशी है कि मेरी अच्छी बोली लगी लेकिन मैं चाहूंगा कि दूसरे खिलाड़ियों पर भी इसी तरह बोली लगाई जाए।

पांचों आइकन खिलाड़ियों के लिए मूक बोली लगाई गई जिसमें फ्रेंचाइजी ने लिखकर अपनी बोली लगाई। आइकन खिलाड़ियों में सरदार के अलावा ऑस्ट्रेलियाई कप्तान जैमी ड्वायेर, इस साल एफआईएच के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुने गए जर्मनी के मौरित्ज फुर्स्से, हालैंड के टान दे नूयेर, भारतीय ड्रैग फ्लिकर संदीप सिंह शामिल थे। सरदार का बेसप्राइज 27800 डालर था।
 
दिल्ली फ्रेंचाइजी के मालिक वेव समूह के अमर सिन्हा ने कहा कि हमारा मकसद सरदार को हर हालत में खरीदना था और यही वजह है कि हमने इतनी महंगी बोली लगाई। हमें उम्मीद है कि उनका अपार अनुभव टीम के लिए उपयोगी साबित होगा।

ड्वायेर का बेसप्राइज 25000 डालर था जिन्हें जेपी पंजाब वारियर्स ने 60000 डालर में खरीदा। फुस्र्से का बेसप्राइज 25000 डालर था और उन्हें रांची राइनोज ने 75500 डालर में खरीदा। वह पहले दौर में सबसे महंगे बिकने वाले दूसरे खिलाड़ी थे। नूयेर का बेसप्राइज 25000 डालर था जिन्हें उत्तर प्रदेश विजाडर्स ने 66000 डालर में खरीदा।
 
भारत के अनुभवी फारवर्ड तुषार खांडेकर भी काफी कम कीमत पर बिके। उन्हें उप्र फ्रेंचाइजी ने 14000 डालर (बेसप्राइज 13900) ने खरीदा। हालैंड के रोलैंट ओल्टमांस को कोच बनाने वाली सहारा समूह की इस फ्रेंचाइजी ने पहले दौर में फारवर्ड एस के उथप्पा को 25000 डालर (बेसप्राइज 9250), प्रधान सोमन्ना को 14000 डालर (बेसप्राइज 5600) और नितिन थिमैयया को 27500 डालर (बेसप्राइज 5600) में खरीदा। भारत के स्टार फारवर्ड एसवी सुनील का बेसप्राइज 13900 डालर था जिन्हें पंजाब वारियर्स ने 42000 डालर में खरीदा।

युवा फारवर्ड युवराज वाल्मीकि को दिल्ली ने 18500 डालर (बेसप्राइज 9250) ने खरीदा। दिल्ली ने उप्र को पछाड़कर गुरबाज सिंह को 36000 डालर (बेसप्राइज 18550) में खरीदा। भारत के मिडफील्डर कोथाजीत सिंह (33000 डालर) और बीरेंद्र लाकड़ा (41000 डालर) को रांची ने खरीदा। पाकिस्तानी मिडफील्डर मोहम्मद रशीद को 41000 डालर (बेसप्राइज 25000) में मुंबई ने खरीदा जबकि फारवर्ड अली शाह पर किसी ने बोली नहीं लगाई। उनके अलावा स्पेन के पोल अमाट और न्यूजीलैंड के शिया मैकालीज भी पहले दौर में नहीं बिक सके। विदेशी खिलाड़ियों में ऑस्ट्रेलिया के साइमन ओचार्ड (45000 डालर) और अर्जेंटीना के लुकास रे (40500 डालर) भी महंगे बिके जिन्हें पंजाब ने खरीदा।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड