शुक्रवार, 28 अगस्त, 2015 | 22:38 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
दिल्ली में कई जगह लगा जाम, डीएनडी पर लगी है वाहनों की काफी लंबी कतार।भूमि अधिग्रहण कानून संबंधी अध्‍यादेश फिर से नहीं लाएगी सरकार।मुम्बई पुलिस आयुक्त राकेश मारिया की उपस्थिति में इंद्राणी मुखर्जी, संजीव खन्ना, ड्राइवर श्याम राय और मिखाइल बोरा से संयुक्त रूप से पूछताछ की गई।उत्तर प्रदेश की दलित जमीन पर सियासत की नींव मजबूत करने में जुटी भाजपा।
कम दाम पर बिकने से निराश हैं संदीप
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:16-12-2012 05:05:49 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

भारत के स्ट्रार ड्रैग फ्लिकर संदीप सिंह हॉकी इंडिया लीग के लिए हो रही नीलामी में बेहद कम दाम पर बिकने से मायूस हैं लेकिन उन्हें खुशी है कि मुंबई टीम में होने से उन्हें रिक चार्ल्सवर्थ जैसे कोच के साथ काम करने का मौका मिलेगा।

मुंबई के आइकन खिलाड़ी संदीप को मुंबई मैजिशियंस ने 27800 की बेसप्राइज पर खरीदा। आइकन खिलाड़ी होने के कारण हालांकि उन्हें मुंबई के सबसे महंगे खिलाड़ी से 15 प्रतिशत अधिक पैसा मिलेगा। संदीप ने कहा कि मैंने सोचा नहीं था कि इतनी कम कीमत लगेगी। वैसे आइकन खिलाड़ियों की मूक बोली लगाई गई थी तो मुझे पता नहीं है कि फ्रेंचाइजी टीमों के जेहन में क्या था। मुझे खुशी है कि मुंबई की टीम में होने से मुझे दुनिया के नंबर एक कोच रिक चाल्सवर्थ के साथ काम करने का मौका मिलेगा। मैं अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की कोशिश करूंगा।

चैम्पियंस ट्राफी के लिए भारतीय टीम से बाहर रहे संदीप ने लंदन ओलंपिक में टीम के कप्तान रहे भरत छेत्री को किसी टीम द्वारा नहीं खरीदे जाने पर दुख जताया। उन्होंने कहा कि भरत के नहीं बिकने का मुझे दुख है। अधिकांश फ्रेंचाइजी के पास विदेशी कोच है जिन्हें अभी भारतीय खिलाड़ियों के बारे में ज्यादा पता नहीं है। उम्मीद है कि आगे नीलामी और भी बेहतर होगी।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingबारिश ने धोया पहले दिन का खेल, भारत 50/2
भारत और श्रीलंका के बीच तीसरे और आखिरी क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन शुक्रवार को बारिश के कारण दो सत्र से अधिक का खेल नहीं हो सका जबकि भारत ने पहली पारी में दो विकेट पर 50 रन बनाए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब जय की हुई जमकर पिटाई...
वीरू (जय से): कल तुझे मेरे मोहल्ले के दस लड़कों ने बहुत बुरी तरह पीटा। फिर तूने क्या किया?
जय: मैंने उन सभी से कहा कि कि अगर हिम्मत है, तो अकेले-अकेले आओ।
वीरू: फिर क्या हुआ?
जय: होना क्या था, उसके बाद उन सबने एक-एक करके फिर से मुझे पीटा।