class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साधु को कब्र से निकालने के मामले में ग्रामीणों से पूछताछ

मेजरगंज। एक संवाददाता

बहेरा में मृत साधु के शव को कब्र से निकालकर जलाए जाने की घटना के बाद प्रशासन की ओर से आनन-फानन में एक मेडिकल टीम को गांव में भेजा गया। सिविल सर्जन द्वारा रेफरल अस्पताल के प्रभारी डा.केके झा के नेतृत्व में चार सदस्यीय जांच टीम बहेरा गांव पहुंची।

जांच टीम को ग्रामीणों ने बताया कि साधु की मौत के बाद गांव में एक के बाद बीस लोगों की मौत हो गई। ग्रामीणों के अनुसार बीमार हुए लोगों के परिजनों को इलाज कराने का अवसर भी नहीं मिला। मृतकों में जामुन राय की पत्नी नीलम देवी, 17 वर्षीया पौत्री विनीता के पेट में दर्द होने से मौत हुई थी। वहीं, श्री राय के भाई हरिवंश राय की 40 वर्षीया पत्नी की मौत सोये अवस्था में हो गई। रामएकबाल राय की पत्नी गायत्री देवी, पुत्र मुकेश राय की मौत पानी में डूबने से हो गई थी। ललन राय की पुत्री अनीसा कुमारी की मौत अचानक तेज बुखार होने से हो गई। ऑटो चालक सुरेश राय की मौत पेट दर्द से हुई थी।

इसी तरह यशोदा कुमारी, मेघु राय, कजरी देवी, महेन्द्र राय सहित 20 ग्रामीणों की अकाल मौत हो गई। ग्रामीण विंदेश्वर राय, चौधरी राय, सूरज राय, रामचंद्र महतो ने बताया कि एक व्यक्ति का श्राद्ध कर्म पूरा भी नहीं होता है तब तक गांव में किसी दूसरे की मौत हो जाती है। इस कारण गांव में दहशत का माहौल है। लोगों के बीच काफी दहशत है कि कब किसके साथ क्या हो जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:In the case of the villagers questioned the monk out of the grave
From around the web