class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

युवक के खाते से करोड़ों का लेनदेन, गुजरात पुलिस ने पकड़ा

गुजरात पुलिस सोमवार को थाना पूराकलन्दर पहुंची। यहां मोहितसिमपुर निवासी रंजीत रावत को अपने साथ गुजरात ले गयी। रंजीत रावत के खाते में 11 माह में करोड़ों रुपये आये थे। गुजरात में एक युवक के खाते से चार लाख रुपये गोलमाल करने का मामला भी समाने आया है। इसकी रिपोर्ट दर्ज है।

पूराकलन्दर थाना क्षेत्र के मोहितसिमपुर निवासी रंजीत रावत पुत्र जयराम के भारतीय स्टेट बैंक मोतीनगर के खाते में ग्यारह माह में करोड़ों रुपया का लेन-देन हुआ है। यही नहीं गुजरात के निवासी सिराज पुत्र यासीन के तीन खातों से चार लाख अट्ठारह हजार रुपये फर्जीवाड़ा कर रंजीत रावत के खाते में ट्रांसफर हुआ। सिराज ने भारुच जनपद के भारुच सिटी थाना में अ.सं. 44/17 धारा 406/420/120 बी आईपीसी तथा 66 सी 66 डी आईटी एक्ट के अन्तर्गत अज्ञात लोगों के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज करायी है।

गुजरात में रिपोर्ट दर्ज होने के बाद गुजरात पुलिस ने जब इसकी जांच की तो पता चला कि रंजीत के खाते में बीते अप्रैल माह से करोड़ों रुपये का लेन-देन हुआ है। पुलिस को इस बात की भी आशंका हैं कि इसके पीछे किसी आतंकी संगठन से जुड़ा मामला हो सकता है। पूराकलन्दर पुलिस ने गुजरात पुलिस के कहने पर रंजीत रावत को हिरासत में ले लिया था। सोमवार को भारुच सिटी थाना के सब इंस्पेक्टर भागीरथी सिंह पुलिस टीम के साथ पहुंचे और रंजीत रावत को साथ लेकर गुजरात चले गये।

पुलिस सूत्रों की मानें तो इस फर्जीवाड़े की घटना के पीछे और लोगों का भी हाथ है। इन पर पुलिस की पैनी निगाहें लगी हैं। रंजीत रावत से पूछताछ में कुछ अहम सुराग मिले हैं लेकिन पुलिस अभी इसे गोपनीय रख रही है। रंजीत रावत ने दिनेश कुमार, राज वर्मा व अभिषेक दुबे का नाम बताया है। पुलिस इन लोगों को तलाश रही है। इन लोगों की गिरफ्तारी के बाद ही किसी तथ्य पर पहुंचेगी। इस बारे में थानाध्यक्ष शमशेर बहादुर सिंह ने बताया कि रंजीत रावत को गुजरात पुलिस अपने साथ ले गयी है। रंजीत रावत के विरुद्ध गुजरात में धोखाधड़ी की रिपोर्ट दर्ज है। गुजरात पुलिस ने क्या पूछताछ की है, इसकी उन्हें जानकारी नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:crores of transactions from youths account caught by gujarat police