Image Loading Ballia, Uttar Pradesh Chief Minister Akhilesh announced Bntadhar in! - LiveHindustan.com
शनिवार, 01 अक्टूबर, 2016 | 06:58 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • सर्जिकल स्ट्राइक के बाद देशभर में हाई अलर्ट, नीतीश सरकार को बड़ा झटका,...

यूपी के सीएम अखिलेश की घोषणा का बलिया में बंटाधार!

रामगढ़ (बलिया) देवेन्द्र नाथ तिवारी First Published:23-09-2016 03:16:00 PMLast Updated:23-09-2016 03:20:16 PM

छोटे-मोटे आदेशों की बात तो दूर, जिले के जिम्मेदार अधिकारी मुख्यमंत्री की बात को भी गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। जिले के कटान पीडितों के पुनर्वास के लिये लोहिया आवास उपलब्ध कराने की मुख्यमंत्री की घोषणा के चार माह बाद भी जब विभागीय अधिकारियों की नींद नहीं टूटी तब आयुक्त (ग्रामीण विकास) ने डीएम को पत्र लिखने के लिए विवश होना पड़ा है। पत्र आने के बाद अधिकारियों की हलचल कुछ हद तक बढ़ी है।

इसी साल दो मई को बैरिया इंका कालेज के मैदान में कटान पीड़ितों के पुनर्वास के लिये मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने लोहिया आवास देने की घोषणा की थी। उन्होंने सदर व बैरिया तहसील के दस-दस पात्रों को पुनर्वास के लिये पट्टे का प्रमाण पत्र भी दिया। साथ ही अधिकारियों को सदर तहसील के शेष 317 व बैरिया तहसील के शेष 40 पीड़ितों के बीच जल्द ही पट्टा आवंटन कर लोहिया आवास के लिये सूची भेजने को कहा। अफसोस कि जिम्मेदारों ने सूची भेजना तो दूर, सदर तहसील के पीडितों में पट्टे का आवंटन भी नहीं किया।

इसके बाद 22 जुलाई को आयुक्त ग्राम्य विकास तुलसी राम ने मुख्यमंत्री की घोषणा का हवाला देते हुए सूची भेजने के लिए डीएम को पत्र लिखा। इसके बावजूद जिला प्रशासन सोता ही रहा है।

शुक्रवार को इंटक जिलाध्यक्ष व कांग्रेस नेता विनोद सिंह ने उक्त पत्र के साथ डीएम से मुलाकात की। चेताया कि यदि एक सप्ताह के अंदर पात्रों की सूची शासन को नहीं भेजी गयी तो बड़ा आंदोलन किया जायेगा। उनके मुताबिक सूची के अभाव में शासन की ओर से लोहिया आवास के लिए धन उपलब्ध नहीं हो पा रहा है।

4.53 करोड़ में खरीदी गयी थी जमीन

कांग्रेस नेता विनोद सिंह के नेतृत्व में कई बार धरना-प्रदर्शन के बाद तत्कालीन प्रमुख सचिव (राजस्व) सुरेश चंद्रा के निर्देश के बाद 13 अगस्त को तत्कालीन राहत आयुक्त लीना जौहरी ने सदर व बैरिया तहसील के कुल 377 पीड़ितों के लिए चार करोड़ 53 लाख 35 हजार 790 रुपये अवमुक्त कर दिये। बाद 31 मार्च 2016 को सदर तहसील के पीड़ितों के पुनर्वास के लिये जमीन भी क्रय कर ली गयी। बताया जाता है कि इसके बाद से ही जिम्मेदारों का खेल शुरू हो गया। आरोप है कि जिस सूची पर शासन से धन अवमुक्त हुआ उसे दरकिनार कर तहसील प्रशासन के अधिकारी अपने तरीके से नयी सूची बनाने-बिगाड़ने में लगे हैं।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: Ballia, Uttar Pradesh Chief Minister Akhilesh announced Bntadhar in!
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड