class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खरीदारों ने जेपी ऑफिस पर किया प्रदर्शन

buyer protest on jaypee office

जेपी इंफ्राटेक कंपनी के दिवालिया की प्रक्रिया शुरू होने की चर्चा फैलते ही खरीदारों में बेचैनी बढ़ गई है। खरीदारों ने शुक्रवार को सेक्टर-128 स्थित जेपी कंपनी के दफ्तर पहुंचकर प्रदर्शन किया। खरीदारों ने चेतावनी दी कि अगर जल्द फ्लैट पर कब्जा नहीं दिया गया तो वह आमरण अनशन को मजबूर होंगे।
खरीदार शुक्रवार दोपहर 12 बजे जेपी कंपनी के दफ्तर पहुंचे। यहां उन्होंने कंपनी अधिकारियों से बात करने का प्रयास किया, लेकिन तीन घंटे कोई उनसे नहीं मिला। इसके बाद कंपनी के कुछ अधिकारियों ने मुलाकात की। खरीदार प्रमोद कुमार ने बताया कि अधिकारियों के सामने उन्होंने मांग रखी कि जेपी कंपनी के पदाधिकारी सामने आकर स्पष्ट रूप से बताएं कि कब तक फ्लैटों पर कब्जा देंगे। इसके अलावा एनसीएलटी (नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल) के चेयरमैन से खरीदारों की भी मुलाकात कराई जाए। खरीदारों ने बताया कि कंपनी के अधिकारियों ने स्पष्ट रूप से कोई जबाव नहीं दिया। उन्होंने सिर्फ आश्वासन दिया कि अगले सप्ताह जेपी ग्रुप के चेयरमैन मनोज गौर के साथ खरीदारों के बैठक कराई जाएगी। फ्लैट खरीदारों को कोई दिक्कत नहीं होने दी जाएगी। इससे पहले खरीदारों ने अलग-अलग नारों के साथ प्रदर्शन किया। खरीदार दोपहर चार बजे जेपी कंपनी के कार्यालय से हटे। 

फ्लैट खरीदारों का पैसा नहीं डूबेगा 
जेपी इंफ्राटेक ने बुधवार को एनसीएलटी में सुनवाई के दौरान अपना पक्ष वापस ले लिया था। बैंक और कंपनी के बीच समझौता हुआ कि संपत्तियों के जरिए कर्ज को निपटाया जाए, जिसमें फ्लैट खरीदारों के हितों को भी सुरक्षित करने का निर्णय लिया गया है। कंपनी ने एनसीएलटी को बताया कि उसने खरीदारों के हितों को ध्यान में रखकर दिवालिया प्रक्रिया शुरू करने पर अनापत्ति दी है। 

खरीदारों को नुकसान नहीं होने दिया जाएगा। जेपी के निदेशकों को शुक्रवार को बुलाया गया था, लेकिन वह नहीं आए। जल्द ही उनको बुलाकर बात करूंगा। 
-अमित मोहन प्रसाद, सीईओ, नोएडा प्राधिकरण

जेपी ग्रुप ने कर्ज चुकाने के लिए कई बैंकों को जमीन दी है। इसकी जानकारी प्राधिकरण को भी दी गई है। प्राधिकरण का भी ग्रुप पर बकाया है। -डॉ. अरुणवीर सिंह, सीईओ, यमुना प्राधिकरण  

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:buyer protest on jaypee office
जेवर एयरपोर्ट के लिए फंड जुटाएगा यमुना प्राधिकरणगुलावली में कब्जेदारों से तीन हजार वर्ग मीटर जमीन मुक्त कराई