class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नए मोहल्ला क्लीनिक एनओसी के इंतजार में फंसे

नई दिल्ली। प्रमुख संवाददातास्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए खुलने वाले नए मोहल्ला क्लीनिक स्थानीय एजेंसियों की अनापत्ति प्रमाणपत्र (एनओसी) का इंतजार कर रहे हैं। दिल्ली सरकार ने ऐसी 800 जगह चिहिन्त की है, जहां इसे खोला जा सकता है। क्लीनिक के निर्माण की मंजूरी के लिए संबंधित एजेंसी की एनओसी के लिए मसौदा विभागों को भेजा गया है। दिल्ली सरकार के लोक निर्माण मंत्री व स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने यह जानकारी दी। मंजूरी मिलते ही नए मोहल्ला क्लीनिक के निर्माण का कार्य शुरू कर दिया जाएगा। दिल्ली वालों को घर के नजदीक ही स्वास्थ्य सेवाएं दी जा सकें। इसके लिए सरकार ने मोहल्ला क्लीनिक की योजना बनाई थी। योजना के तहत छोटी- छोटी बीमारियों के लिए लोगों को अस्पताल जाने की जरूरत नहीं होगी। हर वार्ड में 3-4 मोहल्ला क्लीनिक बनाए जाने की योजना है। क्लीनिक का निर्माण पीडब्ल्यूडी, डीडीए, एमसीडी, राजस्व विभाग समेत अन्य एजेंसियों से संबंधित जमीन पर होना है। किसी भी एजेंसी की जमीन पर कोई केंद्र खोलने से पहले उसकी पूर्व अनुमति जरूरी होती है। दिल्ली सरकार के मुताबिक 1497 वर्ग किलोमीटर का दायरा शहरी क्षेत्र में आता है। इसी के हिसाब से ही मोहल्ला क्लीनिक निर्माण की योजना बनाई गई है। अब तक दिल्ली में 158 मोहल्ला क्लीनिक चल रहे हैं। अब इस मामले में अदालत भी सक्रिय हुआ है। अदालत ने अक्तूबर 2017 तक इस संबंध में विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। सरकार का मानना है कि इससे मोहल्ला क्लीनिक के कामकाज में तेजी आएगी। मोहल्ला क्लीनिक की व्यवस्था पुख्ता बनाने का काम शुरू उपराज्यपाल से जारी की गई हिदायतों के बाद सरकार ने इस व्यवस्था को अमल में लाना शुरू कर दिया है। दिल्ली सरकार के मुताबिक पायलट प्रोजेक्ट में ही 100 टेबलेट के माध्यम से मरीजों का रिकार्ड जुटाया जा रहा है। अब इस सिस्टम को और बेहतर बनाया जाएगा। इसके लिए 6 माह का समय सरकार के पास है। यूआईडी पहचान प्रयोग, सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के बाद मोहल्ला क्लीनिक सेवाओं का प्रयोग करने वाले मरीजों का यूआईडी प्रयोग किए जाने के मामले में आखिरी फैसला सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के बाद होगा। इसकी जगह मोबाइल फोन का विकल्प रखा गया है। लेकिन, क्लीनिक में आने वाले लोगों के मोबाइल में बदलाव जैसी परेशानियां आ रही हैं। मोबाइल कंपनियों के बेहतर ऑफर के साथ लोग अपना नंबर बदल रहे हैं। जो रिकार्ड के अलग-अलग होने की वजह बन रहा है। सरकार इसके लिए आदेश स्पष्ट होने के बाद 6 माह में फुलपूफ्र सिस्टम देने का दावा कर रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:new mohalla clinic waiting for noc
कारोबारी को जमानत देने से इनकारपत्नी की हत्या कर जहरीला पदार्थ खाकर खुदकुशी की