class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नजीब गुमशुदगी: सीलबंद लिफाफे में रिपोर्ट पेश, जांच के लिए सीबीआई ने मांगा और वक्त

जेएनयू के गुमशुदा छात्र नजीब अहमद का पता लगाने में जुटी सीबीआई ने सोमवार को हाईकोर्ट में सीलबंद लिफाफे में अपनी अंतरिम रिपोर्ट पेश की। जांच एजेंसी ने नजीब का पता लगाने के लिए हाईकोर्ट से और वक्त देने की मांग की। इस पर हाईकोर्ट ने सीबीआई को 8 अगस्त तक नजीब का पता लगाने और जांच रिपोर्ट पेश करने को कहा है। ज्ञात हो कि नजीब अहमद का पता लगाने में दिल्ली पुलिस की विफलता के बाद हाईकोर्ट ने 16 मई, 2017 को मामले की जांच सीबीआई को सौंपी थी। जस्टिस जी.एस. सिस्तानी और चंद्रशेखर की पीठ ने जांच के लिए और वक्त देने की सीबीआई की मांग को स्वीकार कर लिया है। बताया जा रहा है कि सीबीआई ने इस रिपोर्ट में नजीब का पता लगाने के लिए अब तक उठाए गए कदमों की जानकारी दी है। इससे पूर्व हाईकोर्ट ने नजीब की मां फातिमा नफीस की ओर से दाखिल बंदीप्रत्यक्षीकरण याचिका पर सुनवाई करते हुए मामले की जांच सीबीआई को स्थानांतरित कर दी थी। याचिका में फातिमा ने नजीब का पता लगाने की मांग की थी। क्या है मसला जेएनयू में बायोटेक्नोलॉजी की पढ़ाई करने वाला नजीब अहमद अक्तूबर, 2016 से लापता है। आरोप है कि गुमशुदगी से एक दिन पहले ही नजीब की जेएनयू के ही कुछ छात्रों से मारपीट हुई थी। पहले मामले की जांच दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा को सौंपी गई थी। इस मामले में दिल्ली पुलिस ने हाईकोर्ट में दो पूर्व छात्रों सहित 9 छात्रों को संदेह के दायरे में बताया था। हालांकि, नजीब का पता लगाने में विफल रहने पर हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा को आड़े हाथ लिया था। हाईकोर्ट ने कहा था कि पुलिस नजीब का पता लगाने के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति कर रही है। सीबीआई जांच से आपत्ति नहीं दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने मामले की सुनवाई के दौरान अपना पक्ष रखते हुए कहा था कि उसने मामले की उचित तरीके से जांच की है। पुलिस ने यह भी कहा था कि नजीब को देशभर में तलाशा गया, लेकिन उसका पता नहीं चल पाया। दिल्ली पुलिस ने हाईकोर्ट को बताया था कि मामले की जांच सीबीआई को सौंपने पर उसे कोई आपत्ति नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Najib missing: report submitted in sealed envelope, CBI seeks more time for investigation
नॉन कॉलेजिएट की चौथी कटऑफ 8 फीसदी तक गिरीकूड़ा उठाने के विवाद में हुई थी युवक की हत्या