class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बवाना में केजरीवाल की 26 गांवों की महापंचायत आज

आम आदमी पार्टी ने 23 अगस्त को बाहरी दिल्ली की बवाना विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव में पूरी ताकत लगा दी है। ग्रामीण इलाके में आप की कमजोर स्थिति को देखते हुए अब मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल खुद चुनाव मैदान में उतरे हैं। वे रविवार शाम पांच बजे बवाना के तहसील ग्राउंड में होने वाली महापंचायत में हिस्सा लेंगे। इस महापंचायत में 26 गांवों के आप प्रतिनिधि भाग ले रहे हैं। इसे सफल बनाने के लिए आप कई दिनों से इसकी तैयारियों में जुटी है। आप का दावा है कि कालोनी क्षेत्र व जेजे क्लस्टर में उनकी अच्छी पैठ है। इसी सीट पर करीब एक लाख चालीस हजार शहरी मतदाता हैं, जबकि ग्रामीण इलाके के वोटरों की संख्या लगभग 80 हजार है। इसी वजह से पार्टी ने शहरी क्षेत्र के एक पूर्वांचली उम्मीदवार रामचंद्र को टिकट दी है। आप की दिल्ली इकाई के संयोजक गोपाल राय का कहना है कि हमें पूर्वांचली उम्मीदवार उतारने का फायदा मिलेगा। इसके अलावा कांग्रेस और भाजपा के प्रत्याशी ग्रामीण परिवेश से जुड़े हैं। बतौर राय, इन दोनों पार्टियों के उम्मीदवारों की गांवों के वोटरों पर तो अच्छी पकड़ है, लेकिन शहर में वे कमजोर पड़ रहे हैं। अब आम आदमी पार्टी का मकसद, ग्रामीण इलाके और खासतौर से जाट बाहुल्य इलाकों के वोटरों को अपनी तरफ खींचना है। इसी के चलते आप ने बीते दिनों शिक्षाविद्ध स्व. होशियार सिंह के नाम पर शिक्षा विभाग की एक योजना शुरू की थी। उसके बाद दिल्ली विधानसभा के पहले अध्यक्ष स्व. चौधरी ब्रहम प्रकाश के नाम पर भी एक योजना अमल में लाई गई है। पार्टी की सोच है कि इससे बवाना क्षेत्र के जाट वोटर आप से जुड़ जाएंगे। आप के मुताबिक, गांव में उन्हें 40 प्रतिशत वोट मिलने की उम्मीद है। इस प्रतिशत को बढ़ाने के लिए आप ने ग्रामीण इलाकों में दो सप्ताह पहले ही एक कमेटी गठित की है। इस कमेटी में गांव के वे मौजूज लोग रहेंगे जो विकास योजनाओं में गहरी रूचि रखते हैं। इसमें पार्टी कार्यकर्ता भी शामिल किए गए हैं। दिल्ली सरकार का ग्रामीण विकास बोर्ड जो भी योजनाएं तैयार करेगा, उन्हें अंतिम रूप देने से पहले इस कमेटी की राय ली जाएगी। बता दें कि इस कमेटी के पीछे आप का मकसद है लोगों को पार्टी से जोड़ना है। आप संयोजक मानते हैं कि उनका मुकाबला कांग्रेस व भाजपा के साथ है, लेकिन यह चुनाव उतना मुश्किल नहीं है। कांग्रेस उम्मीदवार की कुछ गांवों में पैठ है, उनके अपने व्यक्तिगत संबंध भी हैं। केजरीवाल की महापंचायत के बाद इस चुनाव का सीन काफी हद तक बदल जाएगा।
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:kajriwal mahapanchyat today at bawana
दो झपटमारों सहित महिला खरीदार गिरफ्तारसीवर में हुई मौत का मामला : बनेगी विशेष जांच टीम