class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टाइम बम के समान है हौजखास गांव के रेस्तरां, बार व फोटो-स्टूडियो

दक्षिणी दिल्ली स्थित हौजखास गांव में कथित तौर पर नियमों की अनदेखी कर चल रहे रेस्तरां, पबों और फोटो -स्टूडियो को हाईकोर्ट ने टाइम बम के समान बताया। हाईकोर्ट ने यहां के सुरक्षा के मसले पर पुलिस, अग्निशमन, दक्षिणी दिल्ली नगर निगम और अन्य निकायों द्वारा संतोषजनक जवाब नहीं दिए जाने पर यह टिप्पणी की है। हाईकोर्ट ने सोमवार को भी हौजखास गांव में चल रहे रेस्तरां व पबों को खतरनाक बताते हुए सभी निकायों से यह बताने के लिए कहा था कि ‘यदि आतंकी हमला होता है तो एनएसजी कमांडो या अन्य सुरक्षा गार्ड यहां पर कैसे अंदर जा पाएगी। कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल व न्यायमूर्ति सी. हरि. शंकर की पीठ ने गुरुवार को कहा कि इस मसले पर किसी भी निकायन ने संतोषजनक जवाब नहीं दिया है। पीठ ने यह भी कहा कि बार-बार पूछे जाने के बावजूद रेस्तरां से निकलने वाले ठोच कचरा निस्तारण, पानी उपयोग आदि के बारे में न तो रेस्तरां एसोसिएशन व न ही किसी नगर निकाय ने जवाब दिया है जो बेहद चिंताजनक है। पीठ ने कहा है कि हौजखास इलाके में यदि कोई अनहोनी होती है तो वहां एम्बुलेंस, पुलिस व अन्य अपात वाहनों के घुसने तक की जगह नहीं है। हाईकोर्ट ने रेस्तरां, पब व यहां संचालित हो रहे फोटो स्टूडियों के मालिकों को चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि हौजखास में कुछ अनहोनी हुई तो वे आपराधिक व दीवानी मामले दीवानी मुकदमें से बच नहीं सकते। याचिकाकर्ता पंकज शर्मा का आरोप है कि हौजखास में करीब 120 रेस्टोरेंट व पब हैं जो नियमों को ताक पर रखकर चल रहें हैं। उन्होंने हाईकोर्ट अवैध रूप से चल रहे रेस्तरां व पबों को बंद करवाने की मांग की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:high court
इस साल दिसंबर में होगी जेएनयू की प्रवेश परीक्षाबैंक से 24 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करने वाले दो कारोबारियेां की जमानत याचिका खारिज