class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा के लिए अक्टूबर में आएगी गाइड लाइन

gurugram

गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में सात वर्षीय बच्चे की नृशंस हत्या की घटना के मद्देनजर राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) बच्चों की सुरक्षा को लेकर  समग्र दिशा-निर्देश  जारी करने जा रहा है ताकि अलग-अलग विभागों के दिशा-निर्देशों को लेकर पैदा होने वाली असमंजस की स्थिति को खत्म किया जा सके और संस्थानों खासकर निजी स्कूलों के प्रबंधन पर सरकारी व्यवस्था का पहले से ज्यादा नियंत्रण हो।
एनसीपीसीआर के सदस्य (शिक्षा एवं आरटीई) प्रियंक कानूनगो ने बताया कि बच्चों की सुरक्षा को लेकर केंद्र सरकार के 18 दिशा-निर्देश हैं। राज्य सरकारों और दूसरे विभागों के अपने दिशा-निर्देश हैं। अलग-अलग दिशा-निर्देश होने की वजह से  असमंजस की स्थिति पैदा होती है और सही ढंग से क्रियान्वयन नहीं हो पा रहा है। ऐसे में हम सभी दिशा-निर्देशों को संकलित करके एक समग्र दिशा-निर्देश बना रहे हैं। उन्होंने कहा, समग्र दिशा-निर्देश को लेकर काम अंतिम चरण में है। आशा करते हैं कि अगले महीने यह समग्र दिशा-निर्देश एक पुस्तिका की शक्ल में जारी कर दिया जाएगा।   

केंद्र और राज्य के कानून एक-जैसे होंगे       
  कानूनगो ने कहा, समग्र दिशा-निर्देशों को तैयार करने के बाद हम सभी सरकारी विद्यालयों, निजी स्कूलों, अभिभावकों तथा विभागों एवं बोर्डों के पास पहुंचाएंगे। निजी स्कूलों तक इसे अनिवार्य रूप से पहुंचाया जाएगा।  उन्होंने कहा,  चीजें राज्यों और केंद्रीय बोर्डों के बीच उलझी हुई हैं, इसलिए मनमानी और लापरवाही के मामले में कारगर कावार्ई नहीं हो पाती है। हमारी कोशिश यही है कि समग्र दिशा-निर्देश के जरिए निजी स्कूलों पर सरकारी व्यवस्था का ज्यादा नियंत्रण हो और उनकी मनमानी रूक सके।   

 निजी स्कूलों में सुरक्षा संबंधी खामियां ज्यादा
 कानूनगो ने कहा कि निजी स्कूलों के शिक्षकों और कर्मियों को सुरक्षा और दूसरे अहम मुद्दों को लेकर जानकारी नहीं होती है और यह व्यवस्थागत खामी के कारण है इसलिए निजी स्कूलों के संदर्भ में समग्र दिशा-निर्देश की ज्यादा अहमियत है।  उन्होंने कहा,  हमारी कोशिश होगी कि समग्र दिशा-निर्देश सभी स्कूलों तक जल्द से जल्द पहुंचे और इसका प्रभावी क्रियान्वयन हो।  एनसीपीसीआर के सदस्य ने कहा कि देश में करीब 14 लाख स्कूल हैं जिनमें 23 फीसदी निजी स्कूल हैं और इन निजी स्कूलों में सुरक्षा संबंधी व्यवस्थागत खामियां ज्यादा हैं। 
        

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Guidelines for the safety of children in schools will come in October
सीबीएसई ने स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा के लिए जारी की गाइडलाइनकेंद्र को झटका: NGT ने कहा, दिल्ली-NCR में नहीं चलेंगे 10 साल से ज्यादा पुराने डीजल वाहन