class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एयरपोर्ट से बैग चुराने के आरोप में कर्मचारी गिरफ्तार

एयरपोर्ट से यात्री का बैग चुराने के आरोप में पुलिस ने एक युवक को गिरफ्तार किया है। आरोपी की पहचान 23 वर्षीय अर्नब घोषाल के रूप में की गई है। वह एयर इंडिया सेटस नामक कंपनी का कर्मचारी है, जो आईजीआई एयरपोर्ट पर काम करती है। पुलिस उपायुक्त संजय भाटिया के अनुसार बीते 11 सितम्बर को एयर इंडिया सैटस का कर्मचारी किशन लाल एयरपोर्ट पर कार्यरत था। उसे कस्टम से 9 बैग की क्लीयरेंस कराने के बाद उसे डोमेस्टिक एयरपोर्ट पहुंचाना था। रास्ते में उसने देखा कि एक बैग गायब है। उसने इसकी जानकारी अपने वरिष्ठ अधिकारियों को दी। सुरक्षा के अस्सिटेंट मैनेजर सतीश कुमार ने मामले की शिकायत एयरपोर्ट पुलिस से की। इस बाबत मामला दर्ज कर आईजीआई एयरपोर्ट थानाध्यक्ष दीपक कुमार की टीम ने छानबीन शुरु की। पुलिस टीम ने सबसे पहले अंतरराष्ट्रीय टर्मिनल के उस हॉल का सीसीटीवी फुटेज खंगाला, जहां बैग रखे हुए थे। फुटेज में पुलिस को एक संदिग्ध युवक दिखा, जिसकी पहचान एयर इंडिया सैटस के कर्मचारी अर्नब घोषाल के रूप में की गई। वह बैग लेकर वहां से निकलता हुआ फुटेज में दिखा। इस जानकारी पर बीते 12 सितम्बर को पुलिस टीम ने अर्नब के महिपालपुरी स्थित घर पर छापा मारा। पुलिस ने उसे वहां से गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में उसने बैग चुराने का गुनाह कबूल कर लिया। उसकी निशानदेही पर किराये के घर से चोरी किया गया बैग बरामद हो गया। पुलिस को उसके कमरे से एक अन्य बैग भी मिला। उसने बताया कि इस बैग को भी वह एयरपोर्ट से चोरी कर लाया था। आरोपी अर्नब घोषाल पश्चिम बंगाल के कल्याणी विश्वविद्यालय से बी.एससी पढ़ा है। वह एयर इंडिया सैटस कंपनी में कस्टमर सर्विस एजेंट की नौकरी बीते डेढ़ वर्ष से कर रहा था। कस्टम ने बरामद किया सोना बहरीन से आए एक भारतीय नागरिक के पास से गुरुवार तड़के कस्टम और सीआईएसएफ ने सोने के चार बिस्किट बरामद किए हैं। इनका वजन लगभग 466 ग्राम है। यह सोना बैट्री में छिपाकर रखा गया था। युवक की पहचान शराफत अली के रूप में की गई है। कस्टम उससे घटना को लेकर पूछताछ कर रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:employee arrested for theft from airport
पत्नी की हत्या कर जहरीला पदार्थ खाकर खुदकुशी कीहाईकोर्ट ने पूर्व शिक्षा निदेशक से पूछा ‘उन पर क्यों न चले अवमाना का मुकदमा