class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिव्यांग छात्रों को पढ़ाने वाले शिक्षकों को विशेष प्रशिक्षण

दिल्ली में पहली बार राजकीय विद्यालयों में दिव्यांग बच्चों को पढ़ा रहे विशेष शिक्षकों को प्रशिक्षित किया जाएगा। इन शिक्षकों को उनकी विशेषज्ञता से इतर तीन नई विशेषज्ञता (अन्य प्रकार की डिसएबिलिटी) में प्रशिक्षण दिया जाएगा। एक विशेषज्ञता के मूल प्रशिक्षण के लिए पांच दिन का सत्र होगा और कुल पंद्रह दिनों का प्रशिक्षण सत्र आयोजित किया जाएगा। प्रशिक्षित किए गए शिक्षकों का निरीक्षण दिसंबर में किया जाएगा। विशेष शिक्षकों को आईईडीएसएस (इन्क्लूसिव एजुकेशन ऑफ द डिसएबल्ड एट सेकेंडरी स्टेज) शाखा प्रशिक्षण देगी और इसका पैसा एससीईआरटी ( राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद) की ओर से दिया जाएगा। सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि प्रशिक्षण की थीम इस तरह से डिजाइन की गई है, विशेष शिक्षकों की व्यापकता बढ़े। अधिकारी ने बताया कि हम दिव्यांग बच्चों की शैक्षिक स्थिति का मानकीकरण आईईपी (इंडीविजुअल एजुकेशन प्लान) के आधार पर करते हैं जोकि विशेष शिक्षक तैयार करते हैं। हम इसी के आधार तय करते हैं कि उन बच्चों की स्थिति सुधारने के लिये आगे की योजना क्या होगी। चूंकि एक कक्षा में कई तरह की दिव्यांगता वाले बच्चे होते हैं, जबकि एक विशेष शिक्षक एक ही प्रकार की दिव्यांगता का विशेषज्ञ होता है। प्रशिक्षण के लिए करीब 200 विशेष शिक्षकों को चुना जाएगा। जुलाई के आखिरी सप्ताह तक प्रशिक्षण शुरू होने का अनुमान है।
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:edu
प्रैक्टिकल में फेल छात्रों का कुलपति आवास के बाहर प्रदर्शनपूर्व सैनिक ग्रेवाल के परिजनों को एक करोड़ मुआवजे को मंजूरी देने पर रोक लगाने की मांग पर जवाब तलब