class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पिता-पुत्र व्हाट्स एप से चलाते थे झपटमारी-जेबतराशी गिरोह

नई दिल्ली। कार्यालय संवाददाता बाहरी दिल्ली के स्पेशल स्टाफ ने झपटमारी एवं जेबतराशी का गिरोह चलाने वाले पिता और पुत्र को गिरफ्तार किया है। दोनों व्हाट्स एप के जरिए गिरोह को संचालित करते थे। पुलिस ने इनके कब्जे से दो लाख रुपये, 54 स्मार्टफोन और 11 लैपटॉप बरामद किया है। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि इलाके में झपटमारों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा था। इसी बीच स्पेशल स्टाफ के एएसआई संजय को सूचना मिली कि मंगोलपुरी में झपटमारी का सामान खरीदने वाला नंदकिशोर आएगा। इसके बाद स्पेशल स्टाफ के इंस्पेक्टर सुखबीर मलिक और एसआई कमलेश की टीम बनाई गई। टीम ने मुखबिर की सूचना पर नंदकिशोर को उसके बेटे सुभाष के साथ गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने इनकी गिरफ्तारी से 65 वारदातों के खुलासे का दावा किया है। इनमें से 42 तो सिर्फ नंद किशोर के खिलाफ ही दर्ज हैं। वह सुल्तानपुरी थाने का हिस्ट्रीशीटर है, जो 1992 से ही अपराध की दुनिया में सक्रिय है। गिरोह में 30 लोग शामिल जांच में मालूम हुआ कि पिता-पुत्र बीते छह वर्षों से यह गिरोह चला रहे हैं। इनके गिरोह में 30 लोग शामिल हैं, जो दिल्ली के विभिन्न इलाकों में पाकेटमारी और झपटमारी की वारदातों को अंजाम देते हैं। ये युवक सारे सामान को नंदकिशोर को बेच देते थे। सस्ती कीमत पर खरीदकर इन्हें नंदकिशोर महंगे दामों पर बेच देता था। आरोपियों ने बताया कि वे झपटमारों को व्हाट्स एप और फोन के जरिए दिशा-निर्देश देते थे। फिर शाम को सभी की हाजिरी लगती थी।
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:crime
जीएसटी के विरोध में आज संसद घेरेगी कांग्रेसप्रैक्टिकल में फेल छात्रों का कुलपति आवास के बाहर प्रदर्शन