class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीबीआई का दल जांच के लिए जेएनयू पहुंचा

जेएनयू से पिछले साल अक्तूबर में लापता हुए छात्र नजीब अहमद के मामले में सोमवार को सीबीआई का एक दल जेएनयू पहुंचा। सीबीआई जेएनयू के माही-मांडवी छात्रावास में नजीब और एबीवीपी छात्रों के बीच हुए झगड़े के आरोपों और परिस्थितियों की जांच कर रहा है, जिसके बाद से नजीब लापता है। नजीब की मां फातिमा नफीस ने हाल ही में मामले की जांच कर रहे सीबीआई अधिकारियों से मुलाकात कर बेटे के लापता होने से पहले के घटनाक्रम के बारे में बताया था। नजीब छुटि्टयों के बाद 13 अक्तूबर 2016 को विश्वविद्यालय लौटा था और 15-16 अक्तूबर की मध्यरात्रि को उसने अपनी मां को फोन कर कहा था कि सबकुछ ठीक नहीं है। इसके बाद फातिमा बुलंदशहर से बस से दोपहर को दिल्ली पहुंची। आनंद विहार पहुंचने के बाद फातिमा ने बेटे से फोन पर बात की और हास्टल में उनसे मिलने के लिए कहा। फातिमा ने अपनी शिकायत में कहा कि जब वह माही छात्रावास में नजीब के कमरा नंबर 106 में पहुंची तो उनका बेटा वहां नहीं था। दिल्ली पुलिस नजीब को ढूंढने में नाकाम रही, जिसके बाद फातिमा ने सीबीआई जांच की मांग करते हुए दिल्ली हाईकोर्ट का रुख किया। गौरतलब है कि 16 मई को न्यायमूतिर् जी एस सिस्तानी और न्यायमूर्ति रेखा पल्ली ने सीबीआई को मामले की जांच सौंपी थी। इस मामले पर अगली सुनवाई 17 जुलाई को होगी। पुलिस को लगाई थी फटकार : हाईकोर्ट ने कई महीनों की जांच के बाद भी नजीब का पता लगाने में नाकाम रहने पर पुलिस को फटकार लगाई थी। अदालत ने पुलिस के आचरण पर सवाल उठाते हुए कहा था कि वह मामले को सनसनीखेज बनाने की कोशिश कर रही है क्योंकि वह रिपोर्टों को सीलबंद लिफाफे में दायर कर रही है जबकि इनमें कुछ भी गोपनीय, नुकसान पहुंचाने वाला या अहम नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:cbi at jnu
युवक की छत से गिरकर संदिग्ध हालात में मौतचोर पकड़ने आई पुलिसकर्मियों को लोगों ने धुना