class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एटीएम के अंदर स्कैनर-कैमरा लगाकर खातों से निकाल रहे थे पैसा

नई दिल्ली। कृष्ण कुमार दक्षिणी-पश्चिमी जिले की पुलिस ने एक ऐसे नाईजीरियन को गिरफ्तार किया है जो एटीएम में कार्ड वाला ब्लॉक निकाल देते थे, इसके बाद उसमें अपना स्कैनर लगा देते थे। खाताधारक एटीएम से पैसा निकालते हुए कौन सा पासवर्ड डाल रहा है, इसके लिए एक छोटा कैमरा भी लगा रखा था। इसके बाद वह एटीएम की क्लोनिंग कर खाता धारक के खाते से पैसे निकाल लेते थे। आरोपी नाईजीरियन किंग्वले को शनिवार को गिरफ्तार कर लिया गया, वहीं उसके साथी की पुलिस तलाश कर रही है। इन लोगों ने 100 से ज्यादा एटीएम धारकों के खातों से पैसे निकाले हैं। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस बावत दक्षिण-पश्चिमी जिले की वाहन निरोधक दस्ते की टीम एटीएम से अचानक पैसे निकलने की घटनाओं के बढ़ने के बाद इन पर काम कर रही थी। पुलिस को सूचना मिली थी कि कुछ लोगों के खाते से बिना एटीएम में जाए हुए भी पैसे निकल रहे हैं, जिसके बाद एएटीएस इंस्पेक्टर राजकुमार और उनके निर्देशन में एक टीम बनाई गई। पुलिस को इस दौरान सूचना मिली कि कुछ संदिग्ध नाईजीरियन यह काम कर रहे हैं, पुलिस की टीम ने इसी बीच उन एटीएम की भी तलाश की जहां से पैसे निकलने की बात सामने आ रही थी। शनिवार को पुलिस की टीम ने नाइजीरिया के रहने वाले किंग्सव्ले को गिरफ्तार कर लिया। किंग्सवले का वीजा ढाई महीने पहले रद्द हो चुका है। पुलिस ने उसकी निशानदेही पर बिंदापुर में मौजूद एटीएम से मिनी कैमरा, स्कैनर भी बरामद कर लिया है। जिसकी मदद से वह यह सब करता था। पुलिस का कहना है कि इन लोगों ने ढाई महीनों के अंदर ही 100 से अधिक बार इस तरह की वारदात को अंजाम दिया है। चीन से मंगाते थे फर्जी एटीएम जांच में सामने आया कि आरोपी किंग्सवले के साथ इस गिरोह में एक और शख्स शामिल है, जो खाली कार्ड में स्कैनर से एटीएम कार्ड की डिटेल और कैमरे में दर्ज हुए पासवर्ड को चढ़ाता था। यह खाली एटीएम कार्ड में क्लोनिंग करते थे। हालांकि आरोपी इस कार्ड का उपयोग एक ही बार कर पाते थे, क्योंकि कुछ मामलों में लोग पैसा निकलने के बाद कार्ड को ब्लॉक करवा देते थे। आरोपी ने बताया कि मिनी कैमरा पासवर्ड को पकड़ता था, वहीं एटीएम के कार्ड ब्लॉक से हटाये गये अपने ब्लॉक से यह कार्ड की डिटेल अपने पास स्टोर करते थे। रात में करते थे वारदात सूत्रों ने बताया कि एटीएम के अंदर यह लोग छेड़छाड़ रात के समय करते थे, ताकि किसी को कोई शक न हो। इस दौरान एक व्यक्ति बाहर खड़ा रहता था। कुछ मामलों में यह लोग एटीएम के अंदर लगे तार को भी काट देते थे।
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:atm
सुरक्षा के चलते मेट्रो पार्किंग रहेगी बंदकार नहीं लूट पाए तो बदमाशों ने मार दी गोली