class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रद्युम्न हत्याकांड: आरोपी कंडक्टर अशोक का हुआ पोटेंसी टेस्ट, जानें क्या थी वजह

gurugram school murder

प्रद्युम्न हत्याकांड की जांच में जुटी गुरुग्राम पुलिस कोई कोताही नहीं बरतना चाहती है। पुलिस ने सोमवार को बस कंडक्टर अशोक का पोटेंसी टेस्ट कराया। इसमें देखा गया कि कंडक्टर में यौन क्षमता है कि नहीं। विश्वस्त सूत्रों ने इसकी पुष्टि की। रिपोर्ट में अशोक के अंदर यौन क्षमता पाई गई है। पुलिस ने अशोक का पोटेंसी टेस्ट इसलिए कराया क्यों केस में पाक्सो एक्ट की धाराएं भी जुड़ी हैं। ऐसे में कई बार बचाव पक्ष बाद में आरोपी इसी आधार पर बरी कराने की कोशिश करता है। 

गौरतलब हो कि कंडक्टर अशोक ने बाथरूम में गंदी हरकत करने की बात कही थी। हालांकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में यौन शोषण की पुष्टि नहीं हुई। पोस्टमार्टम करने वाले डॉ. दीपक माथुर ने इसकी दोबारा पुष्टि की। पोस्टमार्टम में सामने आया था कि प्रद्युम्न की हत्या धारदार हथियार से की गई। एक अभिभावक ने कंडक्टर की शर्ट पर खून होने की भी पुष्टि की है।

प्रद्युम्न मर्डर:पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टर ने कहा-नहीं हुआ कुकर्म

प्रद्युम्न की हत्या के बाद स्कूल में अफरातफरी मच गई थी और स्कूल प्रशासन द्वारा देरी की गई थी। इसका खुलासा रेयान स्कूल के अभिभावक सुभाष गर्ग ने किया है। वारदात के समय वह स्कूल में मौजूद थे। वह शुक्रवार को स्कूल में अपने बच्चे की फीस जमा कराने के लिए गए थे। उन्होंने खुलासा किया है कि प्रद्युम्न की हत्या के बाद स्कूल में अफरातफरी मच गई थी और पूरे प्रशासनिक फ्लोर में शोर शराबा शुरू हो गया था। बच्चे को बाथरूम से उठाने के बाद उस पर कपड़ा डालकर स्कूल के मेडिकल रूम में ले जाया गया। उसके बाद वहां पर फर्स्ट एड देने के बाद बच्चे को आनन-फानन में गाड़ी से अस्पताल ले जाया गया था। बच्चे के साथ दो स्कूल टीचर भी आई गई थी। उसके बाद स्कूल के रिसेप्शन से बच्चे के पिता को फोन किया गया। 

अभिभावक सुभाष गर्ग ने बताया कि बाथरूम के बाहर खून फैला हुआ था। थोड़ी देर बाद आया तो देखा कि बाथरूम के बाहर फैला खून साफ हो चुका था। उसके बाद बाथरूम का गेट बंद करवा दिया गया था। ताकि कोई अंदर न घुस सके। बस कंडेक्टर अशोक के कमीज पर खून लगा हुआ था जिसे मैंने धोने से मना कर दिया था। लेकिन अशोक ने भी कुछ देर बाद अपनी कमीज धोकर आ गया था।

रेयान इंटरनेशनल स्कूल: बड़ा होकर पायलट बनना चाहता था प्रद्युम्न,इनका था बड़ा शौकीन 

लंबे समय से खामियां: 
भोंडसी स्थित रेयान इंटरनेशनल स्कूल लंबे समय से सब कुछ भगवान भरोसे चल रहा था। जिला प्रशासन की एसआईटी और पुलिस की जांच में चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं। स्कूल कहने के लिए निजी स्कूल था लेकिन इसका संचालन सरकारी स्कूलों की तर्ज पर हो रहा था। छोटे-छोटे काम लंबे समय से सालों से लंबित पड़े हुए थे। स्कूल की अव्यवस्थाओं के मार्च, 2017 में तत्कालीन प्रिंसिपल राखी ने स्कूल को छोड़ दिया था। इसके बाद नीरजा बत्रा को स्कूल का कार्यवाहक प्रिंसिपल बनाया गया था। बत्रा को साल भर में सेवानिवृत्त होना है। बत्रा 1993 से रेयान स्कूल से जुड़ी हुई हैं। 

मुंबई से डीलिंग होती है: 
एसआईटी की जांच में सामने आए तथ्यों में से पता चला है कि स्कूल की व्यवस्थाएं चौक-चौबंद करने के लिए कई बार एस्टीमेट बनाए गए लेकिन उन पर अमल नहीं पाया। एक अधिकारी ने बताया कि हर काम के लिए मुंबई से अनुमति लेनी होती थी। प्रिंसिपल को ज्यादा अधिकार नहीं थे। ऐसे में कामों को कराने में देरी होती थी। प्रबंधन की कोर टीम मुंबई में बैठती है, जिन्हें जमीनी हकीकत का पता नहीं होता था। निलंबित की गई प्रिंसिपल नीरजा बत्रा ने पूछताछ में बताया है कि स्कूल की खामियों के बारे में उन्होंने प्रबंधन को अवगत कराया था, लेकिन इन को दुरुस्त करने पर कोई अमल नहीं हो पाया। 

एसीपी ने की पूछताछ: 
रेयान स्कूल प्रिंसिपल और पूर्व प्रिंसिपल से मंगलवार को एसीपी पटौदी तान्या सिंह ने पूछताछ की। पूछताछ में काफी वक्त लगा। पुलिस ने दोनों से अलग-अलग पूछताछ करने के बाद फिर साथ में बैठाकर सवाल किए। पुलिस की एसआईटी का नेतृत्व डीसीपी साउथ अशोक बक्शी कर रहे हैं। उनकी टीम एसीपी मानेसर, एसीपी पटौदी और एसीपी सोहना शामिल हैं। इस टीम में कुल 10 लोग हैं। इसकी निगरानी पुलिस आयुक्त संदीप खिरवार खुद कर रहे हैं। मंगलवार को आला अफसर भोंडसी में डटे रहे। 

लौट सकती है टीम: 
रेयान प्रबंधन से पूछताछ करने के लिए मुंबई गई गुरुग्राम पुलिस की टीम बुधवार को लौटेगी। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार स्कूल में अव्यवस्थाओं के बारे में पुलिस ने प्रबंधन से जानकारी ली है।  एसआईटी ने मंगलवार को पूछताछ में सामने आए तथ्यों को मुंबई में मौजूद टीम से साझा किया। इसके बाद इंस्पेक्टर मदन ने रेयान प्रबंधन उसके बाबत जानकारी ली। टीम ने कुछ दस्तावेज भी लिए हैं। टीम अपनी रिपोर्ट पुलिस आयुक्त हो सौंपेगी।

प्रद्युम्न मर्डर केसः स्कूल में दोहराई वारदात, अशोक बोला- ऐसे की हत्या

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Ryan School Pradyumna murder case: Bus conductor Ashok potency test done in gurugram haryana
प्रद्युम्न हत्याकांड: रेयान स्कूल मैनेजमेंट की मांग केस को दिल्ली किया जाए शिफ्ट, पढ़ें 6 अपटेडप्रद्युम्न के नाम से छात्रों के लिए बने सुरक्षा गाइडलाइन