class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सफर सस्ता, बैंकिंग-बीमा महंगे होंगे

जीएसटी परिषद की दो दिवसीय बैठक के दूसरे दिन शुक्रवार को सेवाओं पर कर की दरें तय कर दी गईं। शिक्षा और स्वास्थ्य देखभाल को जीएसटी से छूट दी गई है। 
जीएसटी लागू होने के बाद बैंकिंग, बीमा प्रीमियम, फोन बिल महंगे हो जाएंगे जबकि हवाई-रेल सफर और फिल्म देखना सस्ता होगा। परिषद ने सभी सेवाओं के लिए चार दर स्लैब 5,12,18 और 28% में कर लगाने का फैसला किया है।


इसके तहत इकोनॉमी क्लास में हवाई यात्रा पर पांच प्रतिशत जीएसटी लगेगा। परिषद की बैठक के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि दूरसंचार और वित्तीय सेवाओं पर 18 प्रतिशत की मानक दर से कर लगेगा। ओला-उबर जैसी एप वाली टैक्सी सेवा समेत अन्य परिवहन सेवाओं पर पांच प्रतिशत कर लगेगा। 
 राजस्व सचिव हसमुख अधिया ने बताया, सामान्य श्रेणी या गैर एसी रेल यात्रा को जीएसटी से छूट दी गई है। जबकि एसी श्रेणी के टिकटों पर पांच प्रतिशत शुल्क लगेगा।  मेट्रो, लोकल ट्रेन और हज यात्रा सहित तीर्थाटन यात्राओं को जीएसटी छूट जारी रहेगी।


फ्लिपकार्ट, स्नैपडील जैसी ई-कॉमर्स कंपनियों को आपूर्तिकर्ताओं को भुगतान करते समय 1% टीसीएस (स्रोत पर कर संग्रह) कटौती करनी होगी। लॉटरी पर कर नहीं लगेगा। पुताई जैसे ठेके पर होने वाले काम पर 12% जीएसटी लगेगा।  सरकार का लक्ष्य 1 जुलाई से जीएसटी को लागू करना है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:banking-insurance will be expensive