class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कवि कुंवर नारायण को सोशल मीडिया पर कविताओं के जरिए दी श्रद्धांजलि

कुंवर नारायण

ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता कवि कुंवर नारायण का बुधवार को निधन हो गया। वे 90 वर्ष के थे। उत्तर प्रदेश के फैजाबाद में जन्में कुंवर नारायण ने कई लोकप्रिय कविताएं लिखीं। उन्होंने साल 1956 में चक्रव्यूह नाम से पहली किताब लिखी थी। 

कुंवर नारायण ने हमेशा ही राजनैतिक विवादों से दूरी बनाई रखी। उन्हें ज्ञानपीठ पुरस्कार के अलावा साल 1995 में साहित्य अकादमी और 2009 में पद्म भूषण अवॉर्ड मिला था। उनके निधन पर कई महान हस्तियों के साथ-साथ आम लोगों ने भी श्रद्धांजलि अर्पित की है। 

ये भी पढ़ें: दुखदः हिंदी के दिग्गज कवि कुंवर नारायण का 90 साल की उम्र में निधन

प्रसिद्ध कवि डॉक्टर कुमार विश्वास ने कुंवर नारायण के निधन पर लिखा है कि बेहद दुखद. मेरे आपके हमारे प्रिय कवि, पद्मभूषण, ज्ञानपीठ वरिष्ठ कवि श्री कुंवर नारायण श्वांस के छंद से मुक्त हो कर सुर के महालोक की प्रयाण कर गए। 

कवि, लेखक और पत्रकार गीत चतुर्वेदी ने ट्विटर के जरिए से भी श्रद्धांजलि अर्पित की है। उन्होंने लिखा है, 'सबमें प्रवाहित हूं लेकिन अंतर्ध्यान, हमारे भीतर इसी तरह बहते रहेंगे कुंवर नारायण. उन्हें नमन' 

इसके अलावा यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी कुंवर नारायण के निधन पर शोक जताया। यूपी सरकार के ऑफिस ने ट्वीट कर यह जानकारी दी। 

इसके अलावा ट्विटर यूजर बाबुशा कोहली ने उनकी  'कितना कुछ था इस दुनिया में लड़ने झगड़ने को...' पंक्तियां शेयर की। 

एक अन्य यूजर धीरज सिंह लिखते हैं कि ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित कवि कुंवर नारायण का 90 वर्ष की आयु में निधन।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:poet kunwar narayan dies at age of 90 people pays tribute to him on social media
रोचक खबरें: अमीरों से भरे इस देश में, 'मक्खन' के कारण मचा हड़कंप, पढ़ें अभी तक की वायरल खबरेंNGT: वैष्णो देवी के बाद अब अमरनाथ श्राइन बोर्ड को फटकार, श्रद्धालुओं की सुविधाओं पर मांगी रिपोर्ट