class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नोटबंदी ने तीन महीने में डेढ़ लाख दिहाड़ी मजदूरों का छीन लिया रोजगार

एजेंसी, नई दिल्लीे

नोटबंदी की सबसे ज्यादा मार दिहाड़ी श्रमिकों पर पड़ी। नोटबंदी के समय दिसंबर-2016 में समाप्त तीन महीनों के दौरान 1.52 लाख लोगों को काम नहीं मिला। सरकार ने पिछले साल नवंबर में 500 और 1000 रुपये के नोटों को अवैध करार दिया था जिससे आर्थिक गतिविधि में बाधा आयी।

श्रम मंत्रालय के श्रम ब्यूरो द्वारा कुछ चुनिंदा क्षेत्रों में रोजगार के परिदश्य पर तैयार तिमाही रिपोर्ट के अनुसार एक अक्तूबर, 2016 की तुलना में एक जनवरी, 2017 को आईटी, परिवहन, विनिमार्ण समेत आठ क्षेत्रों में आकस्मिक तौर पर रखे जाने वाले दिहाड़ी श्रमिकों की श्रेणी में 1.52 लाख नौकरियों की कमी आई। 

सर्वेक्षण के अनुसार हालांकि इस दौरान पूर्णकालिक श्रमिकों की श्रेणी में 1.68 लाख की वद्धि हुई जबकि अंशकालिक कामगारों की संख्या 46,000 घट गयी। अक्तूबर-दिसंबर के दौरान अनुबंधित और नियमित नौकरियों में क्रमश: 1.24 लाख और 1.39 की वद्धि  हुई।

अक्तूबर—दिसंबर में उसकी पिछली तिमाही की तुलना में नौकरियों में 1.22 लाख की वद्धि हुई जिनमें  आर्थिक गतिविधि, लिंग, श्रमिक के प्रकार (नौकरी एवं स्वरोजगार), रोजगार की स्थिति (नियमित, अनुबंधित और दिहाड़ी) तथा काम का समय (अंशकालिक या पूर्णकालिक) शामिल हैं।

विनिमार्ण, व्यापार, परिवहन, आईटी-बीपीओ, शिक्षा और स्वास्थ्य ने 1.23 लाख श्रमिकों की वद्धि के साथ बड़ा योगदान दिया जबकि निमार्ण क्षेत्र में गिरावट आयी। जिन क्षेत्रों में रोजगार में वद्धि हुई उनमें विनिमार्ण, व्यापार, परिवहन, आईटी़ बीपीओ, शिक्षा और स्वास्थ्य प्रमुख रहे। रखरखाव और रेस्त्रां क्षेत्र में कोई बदलाव नहीं आया। स्वरोजगार श्रेणी में इस दौरान 11,000 की वद्धि हुई। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Note ban unemployed 1.5 lakhs daily wages in three months