class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अहमदाबाद: आज बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट का शिलान्यास करेंगे पीएम मोदी और शिंजो अाबे

Narendra Modi and Shinzo Abe

1 / 2Narendra Modi and Shinzo Abe

bullet train

2 / 2bullet train

PreviousNext

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के पीएम शिंजो अाबे आज साबरमती रेलवे स्टेशन के पास एथलेटिक स्टेडियम में महत्वाकांक्षी 1.08 लाख करोड़ रुपये (17 अरब डॉलर) के अहमदाबाद-मुंबई हाई-स्पीड रेल प्रोजेक्ट की नींव रखेंगे।  

मुंबई से अहमदाबाद के बीच चलने वाली यह देश की पहली बुलेट ट्रेन 508 किमी का फासला 3 घंटे में तय करेगी। मौजूदा समय में यह दूरी तय करने में 7 से 8 घंटे का समय लगता है। ट्रेन की रफ्तार 320 किमी/घंटे के करीब होगी। इसके शुरू होने से मेक इन इंडिया को और ताक़त मिलेगी क्योंकि भारत में इसके उपकरण और कोच बनेंगे।

बुलेट ट्रेन : रफ्तार संग लाखों रोजगार भी देगी ये ट्रेन,जानें खास बातें

बुलेट ट्रेन परियोजना का शिलान्यास करने के बाद, दोनों नेता गांधीनगर में 12वीं वार्षिक द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे, जिसमें कई समझौतों पर हस्ताक्षर किए जाने की उम्मीद है। यह सम्मेलन मोदी और आबे के बीच चौथा वार्षिक शिखर सम्मेलन होगा, जहां दोनों देशों के बीच विशेष रणनीतिक और वैश्विक भागीदारी के ढांचे के तहत बहुमुखी सहयोग में प्रगति की समीक्षा की जाएगी।

जापान उन दो देशों में से एक है, जिनके साथ भारत के ऐसे वार्षिक शिखर सम्मेलन होते हैं, दूसरा देश रूस है।दोनों देशों के प्रधानमंत्री भारत-जापान बिजनेस लीडर फोरम में भी शामिल होंगे।

bullet train

गैर ऊर्जा क्षेत्रों में परमाणु सहयोग बढ़ा सकते हैं भारत-जापान
भारत और जापान दोनों परमाणु ऊर्जा से जुड़े गैर ऊर्जा क्षेत्रों में अपना सहयोग बढ़ा सकते हैं। एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह बात दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के बीच प्रतिनिधिमंडल स्तर की बातचीत से पहले कही। 

मोदी-शिंजो मीट Day 1: भव्य रोड शो से लेकर शानदार डिनर तक, 10 खास बातें

अधिकारी ने कहा कि देश में परमाणु बिजली घर बनाने के लिए जापान से उपकरणों की खरीद के लिए समझौता होने की संभावना कम ही है क्योंकि फ्रेंच कंपनी ईडीएफ और अमेरिकी कंपनी वेस्टिंगहाउस इलेक्ट्रिक कंपनी से बातचीत चल रही है। उन्होंने कहा कि ऐसी संभावना है कि ऐसे अत्याधुनिक उपकरणों की भविष्य में खरीद के लिए जापानी क्रेडिट लाइन के बारे में बात हो सकती है। 

गैर ऊर्जा क्षेत्र में परमाणु दवाइयां, रेडिएशन, परमाणु क्षेत्र में शोध और विकास शामिल हैं। अधिकारी ने नाम उजागर नहीं करने के अनुरोध पर कहा कि इसकी संभावना कम ही है कि परमाणु ऊर्जा सेक्टर में किसी समझौते पर हस्ताक्षर होंगे लेकिन हम गैर ऊर्जा क्षेत्रों को देख सकते हैं। दोनों पक्षों के बीच आखिरी क्षणों की बातचीत जारी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके जापानी समकक्ष शिंजो अबे आज अहमदाबाद में प्रतिनिधिमंडल स्तर की बातचीत करेंगे। उन्होंने कहा कि परमाणु ऊर्जा क्षेत्र में किए जाने वाले सहयोग के बारे में संयुक्त बयान में एक उल्लेख हो सकता है।  

रक्षा संबंधों को बढ़ाने के तौर तरीकों पर भी चर्चा हो सकती है
भारत और जापान के बीच आज होने वाली वार्षिक शिखर बैठक में रक्षा क्षेत्र में सहयोग बढ़ाना चर्चा का मुख्य केंद्र हो सकता है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि जापान से जल, थल और आकाश में चलने में सक्षम यूएस-2 विमान लेने के लंबे समय से लंबित भारतीय प्रस्ताव तथा सैन्य उपकरणों के संयुक्त विकास पर विशेष तौर पर चर्चा हो सकती है। इससे दोनों देशों के बीच सामरिक भागीदारी के साथ रक्षा संबंध भी गहरे हो सकते हैं।


भारत जापान वार्षिक बैठक ऐसे समय में हो रही है, जब उत्तर कोरिया द्वारा किए गए परमाणु परीक्षण और दक्षिण चीन सागर पर चीन के बढ़ते दावे के चलते क्षेत्र में तनाव बढ़ गया है। मोदी एवं अबे इस मुद्दे पर विचार कर सकते हैं। अबे की यात्रा से पहले भारत जापान रक्षा मंत्री स्तरीय वार्षिक वार्ता टोक्यो में हो चुकी है। इसमें सैन्य उपकरणों के संयुक्त उत्पादन, दोहरे उपयोग वाली प्रौद्योगिकी और यूएस-2 शिनमायवा विमान खरीदने के नयी दिल्ली के प्रस्तावों पर चर्चा हुई। इस बात के संकेत हैं कि मोदी अबे वार्ता के बाद दिए जाने वाले संयुक्त वक्तव्य में रक्षा सहयोग के बारे में कुछ अंश हो सकते हैं। 
 
वडोदरा में बनेगा हाई-स्पीड रेल प्रशिक्षण केन्द्र
देश की पहली बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए 600 करोड़ रुपये की लागत से वडोदरा में हाई-स्पीड रेल प्रशिक्षण केन्द्र बनाया जाएगा। भारतीय हाई स्पीड रेल निगम लिमिडेट (एचएसआरसी) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बुधवार को इस आशय की जानकारी दी।

बुलेट ट्रेन स्टेशन के लिए सशर्त भूमि आवंटित
मुंबई-अहमदाबाद के बीच प्रस्तावित बुलेट ट्रेन के एक स्टेशन के लिए महाराष्ट्र सरकार बांद्रा-कुर्ला परिसर (बीकेसी) में 0.9 हेक्टेयर जमीन को सशर्त देने पर राजी हो गई है। सरकार के गृह विभाग द्वारा 12 सितंबर को जारी एक सरकारी प्रस्ताव के अनुसार राज्य सरकार इस भूखंड को सशर्त देगी। शर्त यह है कि परियोजना की शुरुआती लागत में महाराष्ट्र सरकार की 125 करोड़ रुपये की हिस्सेदारी में ही इस भूमि का मूल्य शामिल होगा। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:live on Mumbai-Ahmedabad bullet train: PM Modi’s flagship project set for takeoff
टॉप 10 न्यूजः पढ़ें 9 बजे तक की देश-दुनिया की बड़ी खबरें एक नजर में हाइपरलूप ट्रेनः बुलेट ही नहीं हवाई जहाज से भी तेज चलती है यह ट्रेन, रफ्तार जान दंग रह जाएंगे आप