class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आज के खास दिन कीचड़ में खेलना तो बनता है, जानिए क्यों

जान लो इस खास दिन के बारे में

1/5 जान लो इस खास दिन के बारे में

एक समय था, जब बच्चे धूल-मिट्टी और कीचड़ में ही खेला करते थे। लेकिन आज के आधुनिक समय में बच्चे घर के अंदर इंडोर गेम्स तक ही सीमित हो गए हैं। तुम जैसे तमाम बच्चों को आउटडोर गेम्स के लिए प्रेरित करने और प्रकृति के करीब लाने के लिए इंटरनेशनल मड डे की शुरुआत हुई। हालांकि सबसे पहले वर्ष 2008 में नेपाल और ऑस्ट्रेलिया में बिष्णु भट्ट और जिलियन मकओलिफ ने कीचड़ में बच्चों को खेलने के लिए इस तरह के त्योहार की शुरुआत की। लेकिन औपचारिक रूप से 2011 में 29 जून को इंटरनेशनल मड डे के रूप में तय कर दिया गया। तब से इसे दुनियाभर में मनाया जाने लगा। कीचड़ में खेलने के बारे में कुछ रोचक जानकारी आज हम तुम्हें बता रहे हैं अगली स्लाइड्स में 

Next
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Today is International Mud Day : Know benefits of palying in Mud
इन दो चित्रों में है 5 अंतर, ढंढूने वाले कहलाएंगे जीनियसOMG! बहुत हटके है नन्हे जयस की ये पसंद