class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पहाड़ियाओं ने लोकसभा और विधानसभा सीटों पर आरक्षण का दावा ठोका

दामिन क्षेत्र की पांच विधान सभा और दो लोकसभा सीटों को पहाड़िया आदिम जनजाति के लिए आरक्षित करने की मांग सहित 10 सूत्री मांगों को लेकर पहाड़िया समाज के लोगों ने संताल परगना के प्रमंडलीय आयुक्त के समक्ष धरना-प्रदर्शन किया। अंग्रेजी शासनकाल में गठित दामिन-इ-कोह की 184 वीं स्थापना दिवस पर यह धरना प्रदर्शन का आयोजन किया गया। 

जिन लोक सभा और विधान सभा सीटों को पहाड़िया आदिम जनजाति के लिए आरक्षित करने की मांग की जा रही है, उनमें राजमहल और दुमका लोक सभा सीटों के साथ ही विधान सभा सीटों में बोरियो, बरहेट, लिट्टीपाड़ा, शिकारीपाड़ा और जामा शामिल हैं। इस तरह पहाड़िया आदिम जनजाति समाज ने संताल परगना की लोक सभा सीटों और पांच विधान सभा सीटों पर आरक्षण का दावा ठोका है। पाकुड़ के एक संगठन हिल एसेम्बली पहाड़िया महासभा के बैनर तले आयोजित धरना के बाद 10 सूत्र मांग पत्र आयुक्त के माध्यम से राष्ट्रपति, पीएम, राज्यपाल और सीएम को भेजा गया। उनकी अन्य मांगों में आदिम जनजाति आयोग का गठन और टीएसी (आदिवासी परामर्शदात्री समिति) में आदिम जनजाति सदस्यों को मनोनीत करने की मांग शामिल है।

धरना और प्रदर्शन का नेतृत्व हिल एसेम्बली पहाड़िया महासभा के अध्यक्ष शिवचरण मालतो ने किया। कार्यक्रम में भाग लेने वाले अन्य पहाड़िया नेताओं में सरदार माइकेल मालतो,सरदार कामेश्वर पहाड़िया,सरदार सिमोन मालतो,जोसेफ मालतो,फागु पहाड़िया,कमलेश्वर पहाड़िया सरदार विजय मालतो का नाम प्रमुख है।
पहाड़िया कल्याण की वर्तमान योजना से भी संतुष्ट नहीं
हिल एसेम्बली पहाड़िया महासभा पहाड़िया जनजाति की वर्तमान स्थिति से आक्रोशित है। झारखंड का मूलवासी पहाड़िया समाज का आज तक विकास नहीं हो सका। लोक सभा और विधान सभा में पहाड़िया आदिम जनजाति का प्रतिनिधित्व नहीं है। पहाड़िया जनजाति के लिए सरकारी नौकरियों में सीधी नियुक्ति का प्रावधान किया गया है। रघुवर दास सरकार ने पहाड़िया के लिए 2 प्रतिशत नौकरी में आरक्षण और डाकिया योजना शुरु किया पर इन योजनाओं को लागू करने के तौर-तरीकों से पहाड़िया संगठन संतुष्ट नहीं है। नौकरी में 25 प्रतिशत आरक्षण की मांग कर रहे हैं।
हिल एसेम्बली पहाड़िया महासभा की मांगें
1.    विस्तारित दामिन क्षेत्र में पड़ने वाले धिान सभा एवं लोक सभा सीटों को पहाड़ियाओं के लिए आरक्षित किया जाए
2.    झारखंड राज्य आदिम जनजाति आयोग का गठन किया जाए
3.    आदिवासी परामर्शदात्री समिति में आदिम जनजाति सदस्यों को भी मनोनीत किया जाए
4.    माल पहाड़िया, सौरिया पहाड़िया एवं कुमारभाग पहाड़िया को आदिम जनजाति का जाति प्रमाण पत्र निर्गत किया जाए
5.    आदिम जनजाति की सरकारी नौकरी में सीधी नियुक्ति के लि स्थाई नियमावली बने।
6.    1338 वर्गमील में स्थापित दामिन बाउंड्री का जीर्णोद्धार एवं दामिन डाकबंगला का नवीकरण किया जाए
7.    अंत्योदय और आदिम जनजाति पेंशन से वंचित 30 प्रतिशत पहाड़िया परिवारों को योजना से जोड़ा जाए
8.    आदिम जनजाति डाकिया योजना की कमेटी गठित कर जांच कराया जाए
9.    राजमहल के पहाड़ों को तोड़ना बंद किया जाए। राजमहल पहाड़ी को राष्ट्रीय धरोहर घोषित किा जाए
10. सरदार, नायब एवं मांझी की परम्परागत व्यवस्था को पुन: लागू किया जाए

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Pahadias claim reservation for Lok Sabha and Assembly seats
गिरिडीहः धार्मिक स्थल में युवक को पीटा, आगजनी के बाद तनावनीरज हत्याकांड: चंदन को लाने जौनपुर गई पुलिस बैरंग लौटी