class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सच्ची आवाजः पाकिस्तानी विद्वान ने कश्मीर नीति पर अपने देश को कोसा

इस्लामाबाद, एजेंसी
Pakistani militant

पाकिस्तान के एक शिक्षाविद् ने कहा है कि इस्लामाबाद की कश्मीर नीति 'हर तरफ केवल मुसीबतें लेकर आई है। शिक्षाविद् परवेज हुदभॉय ने डॉन में प्रकाशित एक आलेख में कहा है कि दुनिया भर के देशों की राजधानियों में इस्लामाबाद का नेतृत्व करने वाले पाकिस्तानी राजनयिक इस बात से भलीभांति अवगत हैं कि दुनिया कश्मीर मुद्दे को कोई तवज्जो नहीं देती।

हुदभॉय ने कहा कि वैचारिक पाकिस्तानियों को यह अहसास होना चाहिए कि देश की कश्मीर-पहले नीति ने हर तरफ सिर्फ मुसीबतें पैदा की हैं। प्रॉक्सी (छद्म) का इस्तेमाल विनाशकारी साबित हुआ है। उन्होंने कहा कि इन विचारों की आंशिक अनुभूति का ही परिणाम है कि लश्कर-ए-तैयबा तथा जैश-ए-मोहम्मद के नेताओं को हिरासत में लिया गया है, लेकिन पाकिस्तान की सेना को देश में कश्मीर स्थित सभी आतंकवादी समूहों का खात्मा करना चाहिए। शिक्षाविद् ने कहा कि इस तरह के समूह पाकिस्तानी समाज तथा सशस्त्र बलों के लिए खतरा हैं।

लाहौर तथा इस्लामाबाद में गणित तथा भौतिकी विषय पढ़ाने वाले हुदभॉय ने कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में पाकिस्तान के मुजाहिदीनों द्वारा की गई ज्यादतियों से भारतीय सुरक्षा बलों की ज्यादतियां छिप गई हैं। उन्होंने कहा कि कश्मीरी पंडितों का संहार, भारत से संबंध रखने के आरोप में नागरिकों को निशाना बनाना, सिनेमाघरों को नष्ट करना, महिलाओं को परदे में रहने को विवश करना और शिया-सुन्नी विवादों को हवा देने जैसी गतिविधियों ने कश्मीर की आजादी के आंदोलन को कमजोर किया है। 

शिक्षाविद् ने कहा कि पाकिस्तान की 'भारत को हजारों जख्म देने की नीति' ने कसाईखाने का रूप ले लिया है और वैश्विक राजनीतिक शब्दकोष में जेहाद एक कुरूप शब्द बन गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:our Kashmir Policy is not on right way: Pakistan scholar
From around the web