class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उत्तर कोरिया की जापान को डुबोने और अमेरिका को राख में मिलाने की धमकी

north korea

अपने हालिया परमाणु परीक्षण के बाद संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा लगाए गए नए प्रतिबंधों से भड़के दक्षिण कोरिया ने जापान और अमेरिका को सबक सिखाने की बात कही। उसने गुरुवार को प्रतिबंधों का समर्थन करने वाले जापान को समुद्र में डुबोने और अमेरिका को राख और अंधेरे में बदलने की धमकी दी।  

उत्तर कोरिया के विदेशी संबंधों और प्रचार का जिम्मा संभालने वाली एशिया पैसिफिक पीस कमेटी ने प्रतिबंधों के लिए सुरक्षा परिषद पर भी निशाना साधा और उससे रिश्ते तोड़ने की बात कही। कमेटी ने सुरक्षा परिषद को बुराई की जड़ बताया। उसने कहा कि यह अमेरिका के हाथों बिके हुए देशों का जमावड़ा है, जिनसे वह अपनी मर्जी के मुताबिक फैसले कराता है। उत्तर कोरिया की आधिकारिक समाचार एजेंसी केसीएनए पर जारी बयान के मुताबिक, कमेटी ने कहा कि जापान के चार द्वीपों को परमाणु बम के इस्तेमाल से समुद्र में डुबो देना चाहिए। हमें अपने नजदीक जापान की मौजूदगी की आवश्यकता नहीं है। बयान में कमेटी ने जापान को अमेरिका के इशारे पर नाचने वाला बताया है। 

उत्तर कोरिया की कमेटी ने दक्षिण कोरिया को देशद्रोही और अमेरिका का पालतू भी कहा। बयान के मुताबिक कि अमेरिका समर्थक देशद्रोहियों के समूह को दंडित किया जाना चाहिए और उन पर हवाई हमले किए जाने चाहिए ताकि वे बच न कर सके।

इस वजह से बौखलाया
उत्तर कोरिया ने 3 सितंबर को छठा और अब तक का सबसे ताकतवर परमाणु परीक्षण किया था। इसकी जापान, अमेरिका समेत कई देशों ने आलोचना की थी। उत्तर कोरिया की हरकतों से नाराज संयुक्त राष्ट्र के 15 सदस्यीय सुरक्षा परिषद ने 11 सितंबर को सर्वसम्मति से अमेरिका द्वारा तैयार प्रस्ताव और नए प्रतिबंधों को मंजूरी दे दी। इसके चलते उत्तर कोरिया के टैक्सटाइल निर्यात और अन्य निर्यातों पर प्रतिबंध लगा दिया गया।

भड़काऊ बयानों से तनाव बढ़ेगा : जापान
जापान ने उत्तर कोरिया के बयान की कड़ी निंदा की है। जापान की मुख्य कैबिनेट सेक्रेटरी योशीहिदे सुगा ने कहा कि उत्तर कोरिया की धमकी उत्तेजित करने वाली है। इस तरह के भड़काऊ बयानों से क्षेत्र में तनाव बढ़ेगा।
 
राजनीति हल निकाला जाए : गुतारेस
संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुतारेज ने कोरियाई प्रायद्वीप में मौजूदा स्थिति का राजनीतिक हल निकालने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि इस समस्या का केवल राजनीतिक समाधान हो सकता है। सैन्य कार्रवाई से इतने बड़े पैमाने पर विनाश हो सकता है जिससे उबरने में कई पीढ़ियां लग जाएंगी। 

कड़ी कार्रवाई की जाए : बर्न्स
पूर्व अमेरिकी राजनयिक निकोलस बर्न्स ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने उत्तर कोरिया पर जो नए प्रतिबंध लगाए हैं, वे पर्याप्त नहीं हैं। उन्होंने कहा कि विश्व समुदाय को उत्तर कोरिया के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी होगी ताकि उत्तर कोरिया के लोगों को उनका परमाणु कार्यक्रम रोकने के लिए मनाया जा सके और इस संकट को कम करने के लिए बातचीत करने पर सहमत किया जा सके। 

कड़े प्रतिबंध लगाए जाएं : अबे
जापानी प्रधानमंत्री शिंजो अबे ने हालिया परमाणु परीक्षण के लिए उत्तर कोरिया के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र से सख्त प्रतिबंध लगाने को कहा। उन्होंने कहा कि दुनिया को उत्तर कोरिया को अपनी नीतियों को बदलने के लिए मजबूर करना चाहिए। दो दिन के भारत दौरे पर आए अबे ने कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ ही पूरी दुनिया से अपील करना चाहेंगे कि हमें संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा पारित नए प्रतिबंधों को सख्ती से लागू कर उत्तर कोरिया को अपनी नीति में बदलाव करने में मजबूर करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि वह और प्रधानमंत्री मोदी इस पर पूर्णत: सहमत हैं।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: North Korea threatens to sink Japan and turn US to 'ashes and darkness'
नासा का कासिनी आज शनिग्रह में करेगा प्रवेशट्रंप ने लगाई रोक, चाइनीज फर्म नहीं कर पाएगी अमेरिकी कंपनी का अधिग्रहण