class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अमेरिका-चीन में ठनीः चीन ने ईस्ट चीन सागर में रोका अमेरिका का विमान, यूएस नाराज

east china sea


चीन ने अमेरिका के इस आरोप का खंडन किया कि चीन ने पूर्वी चीन सागर में परमाणु विकिरणों का पता लगाने वाले अमेरिका के खोजी निगरानी विमान को गैर पेशेवर तरीके से बीच में रोका था। चीन ने वाशिंगटन से इस तरह की गतिविधि रोकने की अपील की थी।

प्रशांत वायुसेना की प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल लोरी होज ने एक बयान में कहा कि चीन के दो एसयू-30 विमान ने बुधवार को डब्ल्यूसी 135 कॉन्स्टेंट फीनिक्स विमान को रोका था। यह विमान बोइंस सी-135 का संशोधित रूप है और वह अंतरराष्ट्रीय कानून के अनुसार अंतरराष्ट्रीय हवाईक्षेत्र में नियमित मिशन पर था।

होज ने दोनों विमानों को रोकने के इस तरीके को गैर-पेशेवर बताया है। उन्होंने आगे जानकारी देने से इनकार करते हुए कहा कि यह मामला चीन के समक्ष उचित राजनयिक और सैन्य माध्यमों के जरिए उठाया जाएगा। होज ने एक ईमेल में कहा कि हम इस मुद्दे पर चीन के साथ निजी रूप से बात करेंगे।

चीन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता वु कियान ने कहा है कि अमेरिकी विमान पूर्वी चीन सागर के उत्तरी हिस्से—पीले सागर में निगरानी कर रहा था और कानून एवं नियमों के अनुसार चीनी विमान इसकी पहचान और सत्यापन के लिए गए थे।

मंत्रालय की वेबसाइट पर दिए गए एक बयान में कियान ने कहा कि अभियान पेशेवर और सुरक्षित था। कियान ने अमेरिका पर आरोप लगाते हुए कहा है कि दोनों देशों के बीच समुद्री और हवाई सुरक्षा संबंधी सैन्य सुरक्षा समस्याओं की मुख्य वजह अमेरिकी विमान एवं पोत हैं और उसने अमेरिका से इस प्रकार की गतिविधियों पर रोक लगाने की अपील की।
    
चीन ने पूर्वी चीन सागर के बड़े हिस्से को साल 2013 में हवाई सुरक्षा पहचान जोन घोषित कर दिया था। चीन के इस कदम को अमेरिका ने अवैध करार दिया था और इसे मान्यता देने से मना कर दिया था। 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:east china sea dispute getting worse chinese aircrafts intercept us planes in international waters
अफगानिस्तान: नहीं देखी होंगी इतनी खूबसूरत टीवी रिपोर्टर्स, बना देंगी दीवानाबगदाद : दो कारों में जोरदार धमाके, 4 जवानों समेत 11 की मौत