शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 04:38 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
सपा है कांग्रेस की स्वभाविक दोस्त : रीता
Ashok Pandey First Published:00-00-0000 12:00:00 AM
उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी ने शुक्रवार को यहाँ कहा कि केन्द्र में संभावित संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की सरकार में शामिल होने के लिए सपा नेताओं से बातचीत चल रही है। उन्होंने कहा-सपा, कांग्रेस की स्वभाविक दोस्त है। केन्द्र में सरकार बनाने पर कांग्रेस फिलहाल बसपा के सम्पर्क में नहीं। श्रीमती जोशी ने कहा कि यूपी में कांग्रेस को कम से कम 20 सीटें मिलेंगी और वोटों में भी बीस फीसदी क्षाफा होगा।ड्ढr श्रीमती जोशी शुक्रवार को राज्यपाल टीवी राजेस्वर से मिलीं। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य सरकार सफेद पुताई करा के ऐतिहासिक विधान सभा भवन का रूप बिगाड़ रही है। यह 1ो बन कर तैयार हुआ यह भवन अवध स्थापत्य कला का प्रतीक है। उन्होंने अपने पत्र में कहा कि इस बारे में वह एक पत्र मुख्यमंत्री को लिख चुकी हैं। श्रीमती जोशी ने राज्यपाल से इस मामले में हस्तक्षेप करने की माँग की है।ड्ढr बाद में उन्होंने यहाँ पत्रकारों से कहा कि कांग्रेस एक सहज साझेदार चाहती है जो जाहिर तौर पर सपा ही है। उन्होंने याद दिलाया कि सपा ने परामाणु करार मुद्दे पर केन्द्र की सरकार बचाई थी। उन्होंने इस बात से इन्कार किया कि बहुजन समाज पार्टी के साथ कोई बातचीत चल रही है। उन्होंने कहा कि पार्टी ने सपा को यूपीए सरकार बनने की स्थिति में सरकार में शामिल होने का न्योता भी दिया है। श्रीमती जोशी ने कहा कि उनकी जानकारी के अनुसार कांग्रेस का कोई भी नेता सरकार बनाने के मामले में बसपा के किसी नेता से बात नहीं कर रहा है। अगर दिल्ली से किसी स्तर पर बसपा से बातचीत चल रही है तो उन्हें इसकी जानकारी नहीं।ड्ढr श्रीमती जोशी ने दावा किया कि कांग्रेस उत्तर प्रदेश में कम से कम बीस सीटें जीतेगी और बीस फीसदी तक वोट प्रतिशत बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के पक्ष में राज्य में अन्दरूनी करंट था जिसका पता विपक्ष को नहीं लग सका। उन्होंने कहा कि आगामी 2012 में होने वाले विधानसभा चुनाव में पार्टी अपनी असली ताकत दिखाएगी। विधान भवन मुद्दे पर राज्यपाल को ज्ञापन देने वालों में कांग्रेस नेता राम नरेश यादव, सुबोध श्रीवास्तव, रामकृष्ण द्विवेदी और विवेक कुमार सिंह शामिल थे।ड्ढr
 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।