class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

FILM REVIEW: मजूबत डायरेक्टर की कमजोर कहानी, यहां जाने कैसी है कंगना की 'सिमरन'

मजूबत डायरेक्टर की कमजोर कहानी

1/2 मजूबत डायरेक्टर की कमजोर कहानी

फिल्म देखकर ऐसा लगता है कि सिमरन को क्वीन बनाने की बहुत कोशिशें की गईं। कभी उसे क्वीन के ‘मेरा तो लाइफ खराब हो गया’ डायलॉग की तर्ज पर ‘लूट लिया तुम सबने, मुझे लूट लिया’ जैसे डायलॉग बुलवाए गए। कभी उसे क्वीन के मुख्य किरदार रानी की तरह दुनिया से बेखबर नाचते दिखाया गया। तो कभी मॉल में पुतला बन कर खड़े एक आदमी से खिलवाड़ करते। पर इस तरह की 10-15 कोशिशों के बाद भी सिमरन ‘क्वीन’ नहीं बन पाई। सिमरन लड़-झगड़ कर अपने हिस्से की जिंदगी तो हासिल कर लेती है पर उस तरह दिल को नहीं छू पाती, जिस तरह रानी ने छुआ था। हालांकि यह भी सच है कि रानी को पसंद करना सिमरन को पसंद करने से ज्यादा आसान था। इस सिमरन को पसंद करना थोड़ा मुश्किल है।
  
यह कहानी है अटलांटा में अपनी मां और पिताजी के साथ रहने वाली तलाकशुदा गुजराती लड़की प्रफुल्ल पटेल की। प्रफुल्ल एक होटल के हाउसकीपिंग विभाग में नौकरी करती है। नौकरी के बाद वह जब भी घर वापस जाती है, उसकी मां उसे कहती हैं, ‘बेटी झाड़ू-पोछा करके थक गई होगी।’ जिस पर वह समझाती है कि वह ‘हाउसकीपिंग डिपार्टमेंट’ में काम करती है। घरवाले चाहते हैं कि प्रफुल्ल दोबारा शादी कर ले। पर प्रफुल्ल का सपना है कि वह अपना खुद का घर खरीदे। घर के लिए पैसे इकट्ठा करने के चक्कर में उसे जुआ खेलने की लत लग जाती है। हालात कुछ ऐसे बनते हैं कि वह अपराध के दलदल में फंसती चली जाती है और एक ‘लिपस्टिक लुटेरी’ के रूप में मशहूर हो जाती है।

Next
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:simran film review, kangana ranaut fails to impress this time
ओह! कपिल के जाते ही सुनील कर रहे हैं एक बार फिर टीवी पर वापसी, इस शो में आ सकते हैं नजर...SO SWEET! ट्विंकल ने बेटे आरव के लिए मांगी ये प्यारी दुआ