class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सचिन ने किया 2007 के विश्वकप के बारे में यह खुलासा, कहा बहुत बुरे दौर से...

2007 में हुए विश्वकप में हार के बाद टीम इंडिया पर काफी बुरा असर पड़ा था। टीम सुपर आठ के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाई थी। विश्वकप के बारे में जानकारी देते हुए मास्टर-बलास्टर सचिन तेंदुलकर ने बताया कि भारतीय टीम के लिए 2007 का विश्व कप सबसे बुरा दौर था। 

OH NO! रोड एक्सिडेंट से ऐसे बाल-बाल बचे सुरेश रैना, रेंज रोवर गाड़ी का अचानक टायर फटा

यह बात सचिन ने एक प्रोग्राम के दौरान बताई। तेंदुलकर ने कहा कि वेस्टइंडीज में 2007 विश्व कप के पहले दौर में टीम के बाहर होने के बाद भारतीय क्रिकेट में कई सकारात्मक बदलाव आए। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कई रिकॉर्ड्स अपने नाम कर  चुके सचिन ने बताया कि, 'मुझे लगता है 2006-07 का सत्र हमारी (टीम) के लिए सबसे बुरा था। हम विश्वकप के सुपर आठ दौर के लिए भी क्वालीफाई नहीं कर सके थे। लेकिन हमने वहां से वापसी की, नए तरह से सोचना शुरू किया और सही दिशा में आगे बढ़ना शुरू किया।

प्रैक्टिस मैचः ऑस्ट्रेलिया ने 103 रनों से जीता मैच, 4 खिलाड़ियों ने जड़े अर्धशतक

राहुल द्रविड के नेतृत्व में उस विश्वकप में भारतीय टीम ग्रुप चरण में श्रीलंका और बांग्लादेश से हार कर बाहर हो गई थी। सचिन ने बताया, 'विश्वकप के बाद हमें कई बदलाव करने पड़े और एक बार जब हमने यह तय कर लिया कि टीम के तौर पर हमें क्या करना हैं तो हम पूरी शिद्दत के साथ उसे करने के लिय प्रतिबद्ध थे जिसके नतीजे भी आए। हमें कई बदलाव करने थे। हमें यह नहीं पता था कि वह सही है या गलत। यह बदलाव एक दिन में नहीं आया। हमें नतीजों के लिए इंतजार करना पड़ा। मुझे विश्व कप की ट्रॉफी को उठाने के लिए 21 वर्षों का इंतजार करना पड़ा। महेंद्र सिंह धौनी के नेतृत्व में 2011 में विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम का तेंदुलकर महत्वपूर्ण सदस्य थे। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:sachin tendulkar reveals about team in worldcup 2007
VIDEO: तेज हवा के बीच टहलने निकले धवन, बाइक ने मारी टक्कर और फिर...OH NO! रोड एक्सिडेंट से ऐसे बाल-बाल बचे सुरेश रैना, रेंज रोवर गाड़ी का अचानक टायर फटा