class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्कूल के टीचिंग- नॉन टीचिंग स्टॉफ का कराएं पूरा वेरीफिकेशन : सीबीएसई

CBSE

गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में हुई बच्चे की हत्या के बाद सीबीएसई ने स्कूल में बच्चों की सुरक्षा को लेकर कड़े कदम उठाए हैं। सीबीएसई ने सभी स्कूलों से कहा है कि स्कूल कैंपस के अंदर बच्चों की सुरक्षा पूरी तरह से स्कूल प्रशासन की जिम्मेदारी है। रेयान मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा जवाब-तलब किए जाने के बाद सीबीएसई ने सभी स्कूलों से बच्चों की सुरक्षा के प्रति गंभीर होने को कहा है।
एफिलिएटेड स्कूलों को भेजा सर्कुलर
बुधवार को सीबीएसई ने सभी एफिलिएटेड स्कूलों को बच्चों की सुरक्षा से संबंधित एक सर्कुलर भेजा है। इस सर्कुलर में स्कूल को निर्देश दिया गया है कि वो दो महीने के अंदर अपने स्कूल के सभी शैक्षणिक और गैर शैक्षणिक स्टाफ, स्वीपर, बस ड्राइवर, कंडक्टर, क्लीनर आदि की साइकोलॉजिकल जांच करा लें। सर्कुलर में कहा गया है कि स्कूलों में बच्चों पर हो रहे अपराधों को मद्देनजर रखते हुए स्कूल प्रशासन की पूरी जिम्मेदारी है कि वो कैंपस में बच्चों को सुरक्षित माहौल दें। बच्चों का यह अधिकार है कि वो एक सुरक्षित माहौल में पढ़ाई कर सकें जहां उन्हें शारीरिक, मानसिक या किसी अन्य तरह की प्रताड़ना का सामना न करना पड़े।
वेरीफिकेशन में न हो कोई चूक
सीबीएसई के इस कदम से अभिभावकों की चिंता में कुछ कमी जरूर आएगी। सीबीएसई ने स्कूल से कहा है कि स्कूल के सभी स्टाफ का पूरा वेरीफिकेशन कराएं। शिक्षकों के अलावा गैर शैक्षणिक स्टाफ जैसे चपरासी, गार्ड, स्वीपर, बस ड्राइवर, कंडक्टर आदि का पुलिस से डिटले वेरीफिकेशन करवाएं। इसके अलावा सबका साइकोलॉजिकल टेस्ट भी करवाएं। सीबीएसई ने निर्देश देते हुए कहा है कि वेरीफिकेशन और टेस्ट कराने में पूरी सावधानी बरतें ताकि कहीं कोई चूक न हो।
शिक्षकों और गैर-शैक्षणिक स्टाफ को जानकारी दें
सीबीएसई एफिलिएशन के सहायक सचिव जयप्रकाश चतुर्वेदी ने स्कूलों से कहा है कि वे अपने शिक्षकों और गैर शैक्षणिक कर्मचारियों को बच्चों की सुरक्षा के बारे में पूरी जानकारी दें ताकि कैंपस में कोई अप्रिय घटना न घटे। स्कूलों से बच्चों की सुरक्षा के संबंध में सभी अनिवार्य कदम उठाने को कहा गया है। साथ सभी स्टाफ मेंबर की बच्चों की सुरक्षा के प्रति गंभीर रहने को कहा गया है।
तुरंत सुरक्षा की व्यवस्था पर ध्यान दें
सर्कुलर में कहा गया कि एचआरडी मंत्रालय ने बच्चों की सुरक्षा से संबंधित जो निर्देश दिए हैं उसका पूरा पालन होना चाहिए। बोर्ड ने समय-समय पर स्कूलों को इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी किए है। बोर्ड ने कहा कि स्कूल में बच्चों की सुरक्षा के मद्देनजर जहां भी खामियां नजर आएं उन्हें तुरंत दूर किया जाए ताकि बच्चों को सुरक्षित माहौल मिले।


 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:CBSE orders psychometric test of all school staff
जेएनयू, आईआईटी समेत कई संस्थानों की विदेशी फंडिंग पर रोकBPSC Prelims Results: जारी हुए नतीजे, bpsc.bih.nic.in पर करें चेक