class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्टार्टअप के लिए युवाओं को दो लाख रुपये देगी बिहार सरकार

image

बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि स्टार्टअप के लिए राज्य सरकार युवाओं को दो लाख रुपये तक पूंजीगत सहायता उपलब्ध कराएगी। इसके अलावा केंद्र सरकार या अन्य एजेंसियों से प्राप्त अनुदान के बराबर उन्हीं शर्तों के आधार पर राज्य सरकार सहायता भी प्रदान करेगी।उन्होंने कहा, युवा समस्या पैदा करने वाले नहीं, बल्कि समाधान करने वाले बनें। बहुत सारे नौजवान बड़ी कंपनियों की नौकरियां छोड़कर स्टार्टअप से जुड़ रहे हैं। 
श्री मोदी पटना में पहली बार आयोजित दो दिवसीय आईटी कॉन्क्लेव ‘बिहार स्टेट हैकेथॉन-2017’ के उद्घाटन कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। हैकेथॉन-2017 का आयोजन बीआईटी मेसरा कैंपस में कन्फेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्रीज (सीआईआई) और केपीएमजी के सहयोग से बिहार सरकार की ओर से किया गया है। श्री मोदी ने कहा कि हैकेथॉन के अंतर्गत अलग-अलग विभागों की समस्याओं को एकत्र कर उसके समाधान के लिए आईटी विशेषज्ञों के बीच चुनौतियां रखी गयीं। यह स्टार्टअप का पहला कदम है।   

 

हर साल होगा हैकेथॉन का आयोजन 
मोदी ने युवाओं से अपील की कि वे नए विचारों के साथ आएं और तकनीक के माध्यम से बिहार की समस्याओं का समाधान करें। उन्होंने कहा कि आईटी के माध्यम से ही राज्य के विकास को गति दी जा सकती है। इस मौके पर आईटी विभाग के सचिव राहुल सिंह और बीआईटी मेसरा कैंपस के निदेशक वीके सिंह ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम में सीआईआई के अध्यक्ष पीके सिन्हा, वृजेंद्र कुमार, निदेशक केपीएमजी इंडिया मनीष कुमार, अपर सचिव, आईटी विभाग सहित अन्य प्रमुख व्यक्ति मौजूद थे। 

 

आईटी के क्षेत्र में निवेश का द्वार खोलेगी सरकार
राज्य सरकार सूचना प्रावैधिकी (आईटी) के क्षेत्र में निवेश का द्वार खोलेगी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार गुरुवार को ‘बिहार आईटी एंड आईटीज इन्वेस्टर कॉन्क्लेव’ का स्थानीय होटल में उद्घाटन करेंगे। मुख्यमंत्री आईटी क्षेत्र में निवेश को लेकर विजन डॉक्यूमेंट भी जारी करेंगे। सूचना भवन स्थित संवाद कक्ष में आयोजित प्रेस कान्फ्रेंस में सूचना प्रावैधिकी विभाग के सचिव राहुल सिंह ने उक्त जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कार्यक्रम में केंद्रीय सूचना तकनीक व कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद, उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, यूएस इंडिया स्ट्रेटेजिक पार्टनरशिप फोरम के अध्यक्ष मुकेश आघी, इंडियन सेल्यूलर एसोसिएशन के अध्यक्ष पंकज महेंद्रू, ओरेकल इंडिया के उपाध्यक्ष सुभाष नाम्बियार, लैब टू मार्केट के संस्थापक प्रबंध निदेशक एसके सिन्हा सहित उद्योग क्षेत्र के दो सौ प्रतिनिधि शामिल होंगे।          

 

दो सत्र में होगा कार्यक्रम
श्री सिंह ने कहा कि दो सत्रों में कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। पहले सत्र में दो पैनल डिस्कशन होंगे। इनमें अलग-अलग विषयों पर चर्चा की जाएगी। उन्होंने कहा कि आईटी में निवेश को लेकर तैयार किए गए विजन डॉक्यूमेंट में इस बात की जानकारी दी जाएगी कि बिहार सरकार की इस संबंध में क्या सोच है और इस क्षेत्र में निवेश को लेकर क्या-क्या सुविधाएं हैं। आईटी क्षेत्र में बिहार के विकास की संभावना की जानकारी भी इसमें दी जाएगी। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bihar government will give financial assistance upto 2 lacks for startups
ईस्ट सेंट्रल रेलवे में खेल कोटे से 21 पद भरे जाएंगेजेएनयू, आईआईटी समेत कई संस्थानों की विदेशी फंडिंग पर रोक