class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आरबीआई को बिटक्वॉइन मंजूर नहीं, ला सकता है अपनी क्रिप्टोकरेंसी

rbi

भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा गठित एक समूह क्रप्टिोकरेंसी के वैधानिक मान्यता देने के मसले पर गहन विचार मंथन कर रहा है। बुधवार को आरबीआई के एक वरष्ठि अधिकारी ने कहा कि केंद्रीय बैंक को क्रप्टिोकरेंसी से किसी तरह की कोई आपत्ति नहीं है लेकिन वह बिटक्वॉइन को लेकर खासा चिंतित है क्योंकि इन करेंसी को लेकर दुनियाभर में रेगुलेटरी जांच चल रही है।

मुंबई में एक फिनटेक कांफ्रेंस में आरबीआई के कार्यकारी निदेशक सुदर्शन सेन ने कहा कि असली तस्वीर तब सामने आएगी जब आरबीआई डिजिटल करेंसी जारी करना शुरू करेगा जसे आप फिजिकल करेंसी न होने की स्थिति में साइबर स्पेस में रख सकेंगे। उन्होंने कहा कि गैर मान्यताप्राप्त क्रप्टिोकरेंसी को लेकर आरबीआई सहज नहीं है। 

गौरतलब है कि केंद्रीय बैंक ने पहले क्रप्टिोकरेंसी को लेकर अपनी किसी योजना का खुलासा अब तक नहीं किया था और सेन ने इस बात को लेकर और कोई जानकारी नहीं दी कि इस मुद्दे पर बात कहां तक पहुंच चुकी है। यह भी स्पष्ट नहीं हो पाया है कि आरबीआई क्रप्टिोकरेंसी पर किसी तरह की योजना सरकार को सौंपने जा रहा है या फिर उसका यह रव्यिू अभी प्राथमिक स्टेज पर ही है।

बिटक्वॉइन एक डिजिटल करेंसी है जिसका इस्तेमाल दुनियाभर में लोग लेन-देन के लिए करते हैं और यह मुद्दा मुख्य वत्तिीय सस्टिम और बैंकिंग प्रणाली से बाहर रहकर ही काम करती है इसलिए इसके स्रोत और सुरक्षा को लेकर गंभीर सवाल उठते रहते हैं। इस डिजिटल मुद्रा को किसी भी सरकार का साथ नहीं मिला है और लगातार इसे फ्रॉड, हवाला मनी और टेरर, ड्रग्स मनी के रूप में संबोधित किया जाता है।

इसी सप्ताह जेपी मार्गन चेज एंड कंपनी के चीफ एग्जीक्यूटिव जैमी डिमॉन ने इसे फ्रॉड तक कह डाला और कहा कि बिटक्वॉइन का गुब्बारा जल्द फूटेगा। उधर, चीन ने भी बिटक्वॉइन एक्सचेंजों पर सख्ती करते हुए उन पर प्रतिबंध लगाने की सूचना जारी कर दी है। बिटक्वाइन ने पिछले एक साल में जबरदस्त उछाल दर्ज किया है। पिछले सप्ताह 5000 डॉलर का भाव छूने के बाद यह चीन के फैसले के बाद भारी दबाव में है और फिलहाल 3800 डॉलर से नीचे ट्रेड कर रहा है।
 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:reserve bank is not in favor of bitcoin
बेतहाशा वृद्धि: पिछले चार महीने में थोक महंगाई सबसे ऊंचे स्तर पर, ये रही वजहडॉलर के कमजोर पड़ने से चमका सोना, 150 रुपये चढ़ा