class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाजार में चिंता, सेंसेक्स 33,000 से नीचे पहुंचा

STOCK MARKET

खुदरा मुद्रास्फीति अक्तूबर में सात महीने के उच्चस्तर पर पहुंच जाने के बाद रिजर्व बैंक की ओर से ब्याज दरों में कटौती की उम्मीदें धूमिल पड़ने से शेयर बाजारों में मंगलवार को गिरावट का रुख रहा।  बंबई शेयर बाजार का संवेदी सूचकांक आज 92 अंक गिरकर तीन सप्ताह के निम्न स्तर 32,941.87 अंक पर आ गया। कल जारी आंकड़ों के मुताबिक अक्तूबर में खुदरा मुद्रास्फीति भी पिछले सात माह के उच्चस्तर पर पहुंच गई है। 
एशियाई के प्रमुख बाजारों से भी नरमी दिखी तथा अमेरिकी की वॉल स्ट्रीट से मिला संकेत भी फीका था। आज जारी आंकड़े में खाद्य मुद्रास्फीति भी बढ गयी है।  थोक मुद्रास्फीति के छह माह के उच्चस्तर पर पहुंच जाने से कारोबारी धारणा कमजोर रही।  मुद्रास्फीति बढ़ने से ऐसी आशंका बढ़ी है कि रिजर्वबैंक अब ब्याज दर में और कटौती नहीं करेगा। रिजर्व बैंक की अगली मौद्रिक समीक्षा अगले महीने होगी।  
  बंबई शेयर बाजार का संवेदी सूचकांक शुरुआती दौर में 32,990.03 अंक पर ऊंचा खुलने के बाद 33,000 अंक से ऊपर निकल गया और 33,126.55 अंक तक पहुंच गया।  लेकिन इसके बाद मुद्रास्फीति के ऊंचे आंकड़ों से बाजार में बिकवाली निकलने पर शुरुआती बढ़त जाती रही और कारोबार की समाप्ति पर सूचकांक 91.69 अंक यानी 0.28 प्रतिशत गिरकर 32,941.87 अंक पर बंद हुआ।  सेंसेक्स का 26 अक्तूबर के बाद यह सबसे निचला स्तर है। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी आज 38.35 अंक यानी 0.38 प्रतिशत टकर 10,186.60 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान यह 10,248 अंक और 10,175.55 अंक के बीच रहा।
     

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Market worries Sensex down below 33000
एलआईसी ने कैंसर कवर बीमा पॉलिसी पेश कीशादी-विवाह के मौसम में सोने में आया उछाल