class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

UN के कार्यक्रम में जेटली बोले- 30 करोड़ परिवार को मिले जन-धन खाते, सिर्फ 20 फीसदी खातों का नहीं हो रहा इस्तेमाल

Arun Jaitley

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार को कहा कि प्रधानमंत्री जन-धन योजना के तहत अब तक 30 करोड़ खाते खुल चुके हैं और उनमें से मात्र 20 प्रतिशत ऐसे खाते हैं जिनमें धनराशि जमा नहीं हुई है। 

जेटली ने संयुक्त राष्ट्र द्वारा यहां आयोजित वित्तीय समावेशन सम्मेलन का शुभारंभ करते हुए कहा कि तीन वर्ष पहले जब यह योजना शुरू हुई थी तब 77 प्रतिशत ऐसे खाते थे जिनमें धनराशि जमा नहीं हुई थी लेकिन अब ऐसे खातों की संख्या घटकर 20 प्रतिशत रह गई है। उन्होंने कहा कि इन खातों को सिर्फ खोलना ही काफी नहीं है बल्कि इन्हें संचालित करने की भी जरुरत है। इसके मद्देनजर केन्द्र और राज्य सरकारों की कई योजनाओं के लाभ सीधे लाभार्थियों के जन-धन खाते में जमा कराए जा रहे हैं। 

उन्होंने कहा कि जन-धन खातों को संचालित करने के लिए चौतरफा पहल करने की जरुरत है। उन्होंने सरकारी संसाधनों को जरुरतमंदों के लिए लक्षित करने की आवश्यकता बताते हुए कहा कि पिछले तीन वर्षों में ऐसे मुद्दे केन्द्र बिंदु में लाए गए हैं जिन्हें पहले मुद्दा माना ही नहीं जाता था। 

वित्त मंत्री ने कहा कि आधार कानून संवैधानिकता के परीक्षण में सफल रहेगा। उन्होंने कहा कि पहले जब आधार लाया गया था तब इसकी पूरी क्षमता का उपयोग नहीं किया गया था। उन्होंने कहा कि अब इसकी क्षमता की पहचान हो रही है और यह देश के लिए बहुत जरूरी है। 

जेटली ने कहा कि नोटबंदी से अनौपचारिक अर्थव्यवस्था औपचारिक बन गई है और इससे न केवल कर आधार बढ़ाने में मदद मिली है बल्कि नगदी लेन-देन में भी कमी आई है। नोटबंदी के बाद डिजिटल लेन-देन को बढ़ावा दिया गया था जिसका असर अब दिखने लगा है। 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 30 crore families got Jan Dhan accounts in 3 years: Arun Jaitley
निफ्टी क्या फिर नया रिकॉर्ड बनाने चली, जानें बाजार का हाल तोहफा:ग्रेच्युटी की सीमा हुई दोगुनी, निजी और PSU कर्मियों को होगा फायदा