Mancha Vacha Karmna, मनसा वाचा कर्मणा - Hindustan| Page 1
  • ग्रीक दार्शनिक हेराक्लायटस का मशहूर कथन है कि आप एक ही नदी में दोबारा पांव नहीं रख सकते। हम सोचते हैं कि हम उसी नदी में उतर रहे हैं, लेकिन जब तक आप पांव रखकर बाहर आते हैं, तब तक नदी में बहुत सा...

    20 नबम्बर, 2017 12:41 AM Mansa Vacha Karmana You Also Keep Changing Amrit Sadhana
  • अक्सर उखड़े रहते हैं वह। उनकी नाराजगी सारी हदें पार कर रही हैं। अक्सर वह अपने साथियों को उसकी सफाई भी देने लगते हैं। ‘अपनी नाराजगी पर सफाई देने की जरूरत नहीं है। यह तो हमारी भूख की तरह होती...

    17 नबम्बर, 2017 10:15 PM Manasa Vacha Karmana Rajeev Katara
  • प्रेम, सुकून भरा जीवन और मित्र, हमारी तलाश में ये तीन चीजें प्रमुखता से शामिल हैं। ये आसानी से केवल उन्हें मिलते हैं, जो सरल होते हैं। जो बाहर से भी उतने ही गहरे हैं, जितने भीतर से। दरअसल कृत्रिम...

    16 नबम्बर, 2017 10:23 PM Manasa Vacha Karmana Praveen Kumar Hindustan Hindi
  • कहते हैं कि मौन से याददाश्त मजबूत होती है। महात्मा गांधी कहते थे कि सच्चा मौन वह होता है, जो बोलने की क्षमता होने पर भी व्यर्थ का एक शब्द नहीं बोलता। वह मानते थे कि मौन सर्वोत्तम भाषण है। अगर...

    15 नबम्बर, 2017 11:21 PM Manasa Vacha Karmana Shashiprabha Tiwari Hindustan
  • मेरे साथ नाइंसाफी हो रही है या हुई है, यह बात जेब में रखकर चलने वाले बहुतेरे हैं। पर वैसे लोग कम मिलते हैं, जो इस बात को लेकर लड़ाकू बने हों। यहां लड़ाकू होने का मतलब नकारात्मक नहीं, बल्कि नाइंसाफी...

    14 नबम्बर, 2017 10:52 PM Mansa Vacha Karmana Neeraj Kumar Tiwari Reasons For Injustice
  • बच्चों के साथ जितना बुरा सुलूक होता है, उसे देखकर लगता नहीं है कि मनुष्य सभ्य हुआ है। ओशो कहते हैं कि जिस दिन मनुष्य बच्चों का सम्मान करना सीखेगा, उस दिन मानव समाज की आधारशिला बदल जाएगी। यह...

    14 नबम्बर, 2017 1:17 AM Mansa Vacha Karmana Life's Aspiration Amrit Sadhana
  • आप यहां-वहां, जहां-तहां, लंबे-चौड़े दीर्घकाय व्यक्तियों को देखते हैं। वे महाकार हो सकते हैं, पर महान भी हों, यह जरूरी नहीं। हम जिन्हें बड़ा आदमी कहते हैं, वे धन या मान से ही बड़े नहीं होते, उनमें...

    12 नबम्बर, 2017 11:22 PM Mahendra Madhukar Barappan Who Made Big
  • लिखना वैसा ही है, जैसे किसी बच्चे का बोलना। बच्चे को क्या पता कि वह जो बोल रहा है, वह एक भाषा है, जिसमें शब्द होते हैं और उन शब्दों के अर्थ भी? उसे क्या पता कि जो वह बोल रहा है, वह सुंदर है या असुंदर,...

    10 नबम्बर, 2017 11:26 PM Manasa Vacha Karmana Rajeev Katara
  • कहते हैं कि जो दिल कहता है, उसे करो। वैज्ञानिकों के अनुसार, दिल कुछ नहीं कहता। जो कहता है, वह दिमाग है और दिमाग का कहना ज्यादातर मामलों में सही नहीं होता। वह हमेशा समस्याओं की भरपाई की मुद्रा...

    9 नबम्बर, 2017 11:20 PM Mansa Bacharva Krantna Inertia Of Mind Praveen Kumar
  • आमतौर पर लोग अनुमान और कल्पना के सहारे जीते हैं।  ट्विटर पर ट्वीट करते ही या वाट्सएप या फेसबुक पर कोई पोस्ट करते ही हम कल्पना के घोड़े दौड़ाने लगते हैं। हम कल्पनाओं में खुशी महसूस करते हैं, और...

    9 नबम्बर, 2017 12:36 AM Kalpana Samvarti Shashiprabha Tiwari Mansa Vacha Karmana
  • मनचाहा हासिल करने का एक तरीका है कि उसे साक्षात पाने से पहले मन की दुनिया में पा लिया जाए। जीतने से पहले आभासी जीत जरूरी है। यह ख्याली पुलाव पकाने से अलग है। हम जो हासिल करना चाहते हैं, उसे पहले...

    7 नबम्बर, 2017 11:56 PM Mansa Vacha Karmana Garden Of Mind Neeraj Kumar Tiwari
  • अर्नेस्ट कैसिरर का कहना था कि मनुष्य भी प्रकृति का एक वृक्ष है। वह एक बीज की तरह धीरे-धीरे विकसित होकर आकाश छू लेता है। कितनी डालियां, कितने पत्ते, फल-फूलों से लदा वह ऊध्र्वगामी होता है, मिट्टी...

    7 नबम्बर, 2017 12:08 AM Son Of Nature Mahendra Madhukar Mansa Vacha Karmana
  • साधक की जो सीढ़ियां होती हैं, उनमें श्रावक यानी सुननेवाला सबसे विकसित माना जाता है। यहां श्रोता की बात नहीं हो रही है, श्रोता और श्रावक में बहुत फर्क है। श्रोता तो लाखों मिल जाते हैं, लेकिन...

    6 नबम्बर, 2017 1:27 AM Mansa Vacha Karmana Why People Do Not Listen Amrit Sadhana
  • इतना परेशान क्यों नजर आ रहे हो? उनके साथी ने पूछ ही लिया। पहले तो वह टालते रहे, लेकिन फिर बोले, ‘यार, इस बार कुछ ज्यादा ही टैक्स कट गया।’ ‘हर नुकसान में कुछ नफा भी छिपा होता है। हमें उसी नफे...

    3 नबम्बर, 2017 8:48 PM Manasa Vacha Karmana Rajeev Katara
  • हम काम करते हैं और करते चले जाते हैं। बिना यह सोचे कि जो हम कर रहे हैं, वह क्यों? जबकि काम करने का मतलब सिर्फ यह नहीं होना चाहिए कि इससे हमारा जीवन चलता है। जीवन की गुणवत्ता को यह बढ़ाता हो, यह...

    2 नबम्बर, 2017 9:58 PM Manasa Vacha Karmana Praveen Kumar Hindustan Hindi
  • 1
  • of
  • 12

टीचर - बहुबचन किसे कहते हैं..

टीचर - बहुबचन किसे कहते हैं..

छात्र- जब कोई बहू ससुरालवालों को खरी-खोटी सुनाती है तो उसे बहुबचन कहते हैं..

टीचर अभी भी पूछ रहा हूं कि दूसरा सवाल क्या पूछूं..