Editorial, Blog, Articles, Taja Openion, Mail Box, Meri kahani and Jeena isi ka Naam – Hindustan Editorial Articles
Badree Narayan

पुराने कौशल और नए असमंजस

देश में 1990 के बाद जब उदारवाद का दौर आया और बाजार को समाजवादी युग के बंधनों से मुक्त किया गया, तो हममें से कुछ ने इसका स्वागत किया, तो कुछ ने आलोचना। इसी को कई ने बाजारवाद के दौर की संज्ञा दी। यह...

डब्बू : मैनेजर साहब मुझे लोन चाहिये..

डब्बू : मैनेजर साहब मुझे लोन चाहिये..

बैंक मैनेजर: बैंक में खाता है?

डब्बू : अभी तो घर पे ही खाता हूं। लोन दे दोगे तो बैंक में खा लिया करूंगा....