class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कार्रवाई: अहमदाबाद ब्लास्ट को अंजाम देने वाला आतंकी बिहार के गया से गिरफ्तार, पूछताछ जारी, VIDEO

 Taueef Khan

1 / 2 Taueef Khan

Ahmedabad bombings

2 / 2Ahmedabad bombings

PreviousNext

अहमदाबाद में 2008 में हुए विस्फोट को अंजाम देनेवाले एक प्रमुख आतंकी मोहम्मद अतीक उर्फ तौसीफ खान को बुधवार को बिहार के गया में गिरफ्तार किया गया। तौसीफ खान से गुरुवार को दिनभर तीन जांच एजेंसियों ने पूछताछ की। इनमें बिहार एटीएस, गुजरात एटीएस और एनआईए की टीम शामिल बताई गई है। हालांकि अभी कोई ब्योरा नहीं मिला है। 

बुधवार को राजेन्द्र आश्रम स्थित साइबर कैफे से निकलने के बाद तौसीफ व सन्ने खां को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। दोनों की निशानदेही पर देर रात सहदेव खाप से मो. गुलाम सरवर खां को गिरफ्तार किया गया। पुलिस सूत्रों के अनुसार, अहमदाबाद विस्फोट में नाम आने के बाद तौसीफ भागकर गया आ गया था। शुरुआती दिनों में उसके पटना में भी रहने की पुष्टि हुई है। तौसीफ के बारे में पुलिस का कहना है कि वह अहमदाबाद का रहने वाला है। कुछ सूत्रों का कहना है कि उस पर चार लाख का इनाम भी है लेकिन इसका ब्योरा नहीं मालूम हो सका है। 

पूछताछ में विस्फोट से संबंधित कई सूचनाएं जांच एजेंसियों ने जुटाई है। गुरुवार को दिनभर हुई पूछताछ के बाद एसएसपी गरिमा मलिक ने तौसीफ के अभियुक्त होने की पुष्टि की है। तौसीफ के अलावा पकड़े गए दो अन्य संदिग्धों से भी पूछताछ चल रही हैं। तौसीफ से एटीएस के आईजी सुनील कुमार झा, पटना के जोनल आईजी नैयर हसनैन खान व एसएसपी गरिमा मलिक सहित पटना से आई एटीएस व एसटीएफ की टीम ने पूछताछ की। पुलिस ने साइबर कैफे से वह कम्प्यूटर जब्त किया है, जिसका इस्तेमाल मो. तौसीफ ने किया था। वहीं इसके मोबाइल का सीडीआर भी निकाला गया है।

निजी स्कूल में पढ़ाता था तौसीफ
सूत्रों के अनुसार, गया आने पर तौसीफ मो. सरवर के संपर्क में आया था। कुछ दिनों तक वह सरवर के साथ रहा। फिर डोभी थाना क्षेत्र के करमौनी में सरवर द्वारा संचालित मुमताज एकेडमी में पढ़ाने लगा। इसकी संदिग्ध हरकतों के कारण उसे स्कूल से हटा दिया गया था। लेकिन पिछले दो साल से वह एक बार फिर उसी स्कूल में पढ़ा रहा था। पुलिस सूत्रों का कहना है कि स्कूल से हटाए जाने के बाद तौसीफ छिपकर और नाम बदलकर पश्चिम बंगाल व बांग्लादेश भी जाता था। 

सरवर सिमी का स्लीपर सेल‌!
मो. सरवर सहदेव खाप गांव का रहने वाला है और बोधगया प्रखंड की बारा पंचायत के प्राथमिक विद्यालय निमहर में प्रभारी शिक्षक के रूप में कार्यरत है। पुलिस को सरवर के सिमी का स्लीपर सेल होने का शक है। साल 2013 में बोधगया महाबोधि मंदिर में हुए विस्फोट के बाद एनआईए ने उससे चार घंटे तक गहन पूछताछ की थी। उस समय कोई सबूत नहीं मिलने पर सरवर को छोड़ दिया गया था। 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:suspected arrested by gaya police in ahmedabad blast
हाजीपुर सदर थाने की गश्ती टीम पर हमला, थानाध्यक्ष गंभीरखबरें राज्यों सेः मंत्री पिता ने देश रक्षा के लिए सेना को सौंपी बेटी, खुद लगाए स्टार, पढ़े राज्यों की टॉप-10 खबरें