class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिजली संकट से सोनबरसा में लोग परेशान

बिजली विभाग की उदासीनता से लो वोल्टेज तथा अनियमियत आपूर्ति के दौरान लगातार हो रही बिजली की आँख मिचौली का खेल उपभोक्ताओं का सिरदर्द बन गया हैं।विभागीय कर्मचारियों से अधिकारियो तक की गई शिकायतों का नजरअंदाज करना आम बात है।उक्त बातें प्रखंड संख्या 21 की महिला जिला पार्षद इंदु देवी ने एक बयान जारी कर कही हैं।उन्होंने कहा कि राज्य विधुत परिषद का दोषपूर्ण क्रिया कलाप और कार्यशैली का ज्वलंत उदाहरण हैं कि अपनी जिम्मेदारी से बचने के लिए कभी 33 हजार केवीए में फॉल्ट होना तो कभी 11 हजार केवीए का तार टूटना तो कभी आबश्यकता से बहुत कम बिजली की सप्लाई मिलने का रोना रोकर पल्ला झाड़ लेते हैं।पार्षद इंदु ने बयान में दर्शाया है कि नेपाल सीमा से सटे सोनबरसा से प्रखंड अति पिछड़ा क्षेत्र घोषित हैं।जहाँ के संयमित उपभोक्ता बिजली की तमाम यातना को झेलते हुए विभागीय कर्मचारियों व अधिकारियो का घेराव अथवा बंधक नही बनाया।किन्तु अब बिजली की अब्यवस्था से आजिज आ चुके लोगो का किसी पर भरोसा नही रह गया।पार्षद ने जिला प्रशासन से मांग किया है कि समय रहते बिजली की बढ़ती समस्या पर गम्भीरता से विचार करे,अन्यथा परेशानी झेल रहे उपभोक्ता अपनी मांगों के लिए धरणा प्रदर्शन चक्का जाम आदि करने के लिए गोलबन्द हो रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:electric crasis in sonbrsa
नशे की हालत में गिरफ्तारबैरिगनिया में दो बाल श्रमिक मुक्त कराए गए