class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हाईकोर्ट के वकील के घर भीषण डकैती, दो सालों पर आरोप

राजीव नगर थाने के रोड नंबर 25 स्थित गांधी नगर में रहनेवाले हाईकोर्ट के वकील विकास रतन गिरि के घर रविवार की देर रात दर्जनभर से अधिक डकैतों ने धावा बोल दिया। वकील सहित परिजनों को बंधक बनाकर नकद, गहने समेत लाखों की संपत्ति लूटकर फरार हो गए। वकील विकास रतन ने अपने दो सालों बालमुकुंद गिरि व आदित्य गिरि पर डकैती कराने का आरोप लगाते हुए राजीव नगर थाने में एफआईआर दर्ज करायी है। घटनास्थल से पुलिस ने डकैतों की एक चप्पल व लोहे का रॉड बरामद किया है। फॉरेंसिक टीम भी मौके पर पहुंची और अंगुलियों के साथ कई तरह के नमूने लिए। मारपीट कर बंधक बनाया घटना के बारे में विकास रतन ने बताया कि वह राजीव नगर में करीब तीन सालों से घर बनाकर परिवार के साथ रह रहे हैं। परिवार में उनकी पत्नी व तीन बच्चे हैं। उनके साथ उनका मुंशी अनूप कुमार भारती भी रहता है। रविवार की रात करीब डेढ़ बजे दर्जनभर डकैत हथियार के साथ घर पर पहुंच गए। मेन गेट का ताला तोड़कर अंदर घुसे। दूसरे तल्ले पर रह रहे विकास व उनकी पत्नी व बच्चों के साथ मारपीट करना शुरू कर दिया। फिर उनका हाथ-पैर बांध कर मुंह में कपड़े भी ठूंस दिए। अनूप को भी कमरे में बंद दिया। इसके बाद डकैतों ने सभी कमरों की तलाशी लेते हुए करीब 50 हजार रुपए नकद, लाखों के गहने, कीमती कपड़े सहित अन्य सामान लूट लिए। डकैतों ने विकास व मुंशी अनूप के साथ जमकर मारपीट भी की। सभी डकैत अपने मुंह को गमछे व तौलिए से ढंग रखे थे। करीब घंटेभर तक डकैत घर में रहे। इस दौरान विकास को जान से मारने की भी धमकी दे रहे थे। जाते-जाते डकैतों ने घर के सभी लोगों को एक कमरे में बंद कर दिया और मेन गेट से ही फरार हो गए। डकैतों के जाने के बाद परिजनों ने शोर मचाया तो पड़ोसी ने आकर कमरे का दरवाजा खोला। इसके बाद सुबह करीब तीन बजे पुलिस को सूचना दी गयी। सूचना के बाद थानाध्यक्ष मृत्युंजय कुमार व कोतवाली डीएसपी डा. मो. शिब्ली नोमानी मौके पर पहुंचे। छानबीन की तो कमरे से अपराधियों की एक चप्पल व रॉड मिला। बाद में पुलिस ने फॉरेंसिक टीम की मदद से डकैतों की अंगुलियों के निशान मौके से लिए। दो सालों पर डकैती कराने का आरोप कोतवाली डीएसपी ने बताया कि पुलिस को दिए बयान में विकास रतन ने कहा है कि डकैती डलवाने में उसके दो सालों का हाथ है। उनका ससुर विजय शंकर गिरि पटना सिटी स्थित बड़ी पटनदेवी मंदिर के महंथ हैं। उनके तीन बेटे हैं। वह महंथ के पद पर अपने छोटे बेटे विकास गिरि को बैठाना चाहते थे। जबकि उस पद पर उनके दो बड़े बेटे बालमुकुंद गिरि व आदित्य गिरि काबिज होना चाहते हैं। विकास रतन भी अपने ससुर के पक्ष में है। वह चाहते हैं कि उनका छोटा साला विकास महंथ बने। इसी को लेकर दो बड़े सालों से उनका विवाद चल रहा है। चढ़ावा में हिस्सा चाहते हैं उधर महंथ विजय शंकर गिरि का कहना है कि उनके दो बड़े बेटे बालमुकुंद गिरि व आदित्य गिरि से विवाद चल रहा है। दोनों मंदिर में आए चढ़ावे में हिस्सा चाहते हैं। साथ ही जमीन में भी हिस्सा चाहते हैं। दोनों को मैंने व्यवसाय करवा दिया है। दोनों को पैरों पर खड़ा कर दिया है। फिर भी उनका लालच कम नहीं हो रहा है। दोनों ने मेरे खिलाफ केस भी कर दिया है। विजय शंकर गिरि का कहना है कि मंदिर का अभी मैं महंथ हूं। जब तक मैं नहीं चाहूंगा कोई महंथ नहीं बन सकता है। कोट डकैतों ने नकद , गहने सहित लाखों की संपत्ति लूट ली है। वकील विकास रतन ने अपने दो सालों बालमुकुंद गिरि व आदित्य गिरि पर डकैती डलवाने का आरोप लगाया है। पुलिस आरोपियों को दबोचने के लिए छापेमारी कर रही है। -डॉ. मो. शिब्ली नोमानी , डीएसपी, कोतवाली
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:vikil
विभाजनकारी शक्तियों से राहुल ही कर सकते हैं मुकाबलापटना नगर निगम चुनाव में महागठबंधन को तगड़ा झटका, मेयर के पद पर हुआ NDA  का कब्ज़ा