class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गंगा किनारे के गांवों में जैविक सब्जी को बढ़ावा दें : नीतीश

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पदाधिकारियों को निर्देश दिया कि गंगा के दोनों किनारों पर बसे गांवों तथा दनियावां से बिहारशरीफ तक जैविक सब्जी को बढ़ावा देने के लिए बड़े पैमाने पर तैयारी करें। सब्जी की खेती के लिए उसी लागत के अनुरूप अनुदान की व्यवस्था की जाए। इसके लिए योजना बनाएं। मुख्यमंत्री ने कृषि विभाग की समीक्षा की और कई निर्देश दिए। मुख्यमंत्री सचिवालय संवाद में हुई समीक्षा बैठक में उन्होंने निर्देश दिया कि प्रथम चरण में जैविक कॉरिडोर में जैविक सब्जी उगाने और फिर धीरे-धीरे पूरे बिहार को जैविक बनाने का प्रयास किया जाए। किसानों को विशेषकर सब्जी के लिए समय-समय पर सलाह उपलब्ध कराने की व्यवस्था की जाए। जहां मिट्टी में पोषक तत्वों की कमी है, उन जगहों की मिट्टी के सुदृढ़ीकरण के लिए क्षेत्रवार विश्लेषण किया जाए। जैव कीटनाशी के रूप में गोमूत्र तथा सिटी कम्पोस्ट को बढ़ावा दिया जाए। नगर विकास विभाग द्वारा प्रायोजित सिटी कम्पोस्ट उत्पादन का उपयोग किया जाए। जैविक प्रमाणीकरण के कार्य के लिए बिहार कृषि विश्वविद्यालय को प्रमाणीकरण एजेंसी के रूप में विकसित करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि नीरा की बॉटलिंग से संबंधित अनुसंधान कार्य बिहार कृषि विश्वविद्यालय के अधीन कार्यरत उद्यान महाविद्यालय नूरसराय, नालंदा में कराकर शीघ्र नीरा उत्पादन के लिए उपलब्ध कराया जाए। मुख्यमंत्री ने पपीता, चिनिया केला तथा अमरूद के स्थानीय प्रभेदों को बढ़ावा देने को कहा। विश्व बैंक संचालित कोसी बेसिन परियोजना के क्रियान्वयन में शीघ्रता लाने का भी निर्देश दिया। मौके पर उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, कृषि मंत्री प्रेम कुमार, पशु एवं मत्स्य संसाधन मंत्री पशुपति कुमार पारस, मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह भी उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Promoting organic vegetables in Ganga coast villages: Nitish
पटनासाहिब को मिली दो विद्युत योजना : नंदकिशोरनमूना जांच के आधार पर बने स्वायल फर्टिलिटी मैप : मंत्री