class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिजियोथेरेपी से कई बीमारी का इलाज संभव

जहां से डॉक्टर अपना इलाज बंद करने की बात कहते हैं, वहीं से फिजियोथेरेपी का इलाज शुरू होती है। डॉक्टर भी इलाज के बाद फिजियोथेरेपी कराने की सलाह देते हैं। मरीज को ये बातें हड्डी रोग विशेषज्ञ सह विभागाध्यक्ष डॉ. एसके सिन्हा ने एनएमसीएच में विश्व फिजियोथेरेपी सप्ताह दिवस के मौके पर कही। मुख्य वक्ता डॉ. एनके सिंह व डॉ. नरेन्द्र सिंह ने बताया कि पहले लोगों को फिजियोथेरेपी के प्रति धारणा थी कि डॉक्टर जब रोग ठीक नहीं कर सके तो इससे क्या होगा। फिजियोथेरेपी में कई तरह की आधुनिक तरीके का इजाद हुआ है। जिससे जो काम ऑपरेशन से नहीं हो पाता है, वह नियमित फिजियोथेरेपी से ठीक हो सकती है। उन्होंने राज्य सरकार के फिजियोथेरेपी के प्रति गंभीरता को अच्छी पहल बताया। कौन-कौन सी रोग हो सकता है ठीक विभागाध्यक्ष ने बताया कि फिजियोथेरापी से आर्थराइटिस, पेरी आर्थराइटिस, ज्वाइंट पेन, हड्डी टूट-फूट, सर्विवाइल, न्यूरो फिजिशियन व सर्जरी, मेडिसिन, शिशुरोग, पोलियो बीमारी को ठीक किया जा सकता है। सबसे अधिक विकलांग बच्चे को ठीक करने में फिजियोथेरापी बहुत ही कारगर होता है। लगभग सभी विभागों में इसकी आवश्यकता होती है। कार्यक्रम आयोजक डॉ. मुन्नु प्रसाद सिंह ने बताया कि एनएमसीएच में पहली बार इस तरह का आयोजन हो रहा है। 1996 में इसे शुरू किया गया था। इस बार का थीम फिजिकल एक्टीविटी फोर लाइफ पर डॉ. एलवी सिंह ने विचार रखे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:news brief
चार से जुड़ेगा नए मतदाताओं का नामतेरह सैलानियों को लेकर आया राजमहल