class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मानसून के शुरूआती दौर में ही बारिश के लिए तरस रहा बिहार

पूर्वी बिहार को छोड़ दें तो शेष बिहार में मानसून एक सप्ताह विलंबित हो गया है। लोग बारिश के लिए तरस रहे हैं और मानसून के बादल पूर्वी बिहार में ही हठ किए हुए हैं। हालत यह है कि जून के इन 19 दिनों में ही प्री-मानसून और मानसून की बारिश का लेखाजोखा में बिहार पिछड़ गया है। बिहार में सामान्य से 36 फीसदी कम बारिश इस अवधि में हुई है। 24 जिलों में बहुत ही कम बारिश दर्ज की गई है। बिहार में जून के इन 19 दिनों में 80.6 मिलीमीटर बारिश होनी चाहिए थी, इसके सापेक्ष 51.5 मिलीमीटर बारिश ही हुई है। सोमवार को बिहार में 5.8 मिमी. बारिश होनी चाहिए थी, जिसके सापेक्ष महज 1.9 मिमी. बारिश हुई। सोमवार को सुबह आठ बजे से शाम 5.30 बजे के बीच भागलपुर में 0.6 मिमी. तथा पूर्णिया में 2.5 मिमी. बारिश हुई। पटना, गया तथा अन्य जिलों में तीखी धूप रही। गर्मी से लोग बेहाल रहे। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि अभी और तीन दिन लग सकते हैं अन्य जिलों में मानसून के पहुंचने में। मौसम विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक सिर्फ भोजपुर और जहानाबाद में ही इन 19 दिनों में अच्छी बारिश हुई है। राजधानी पटना सहित 12 जिलों गोपालगंज, सीवान, सारण, वैशाली, सीतामढ़ी, समस्तीपुर, दरभंगा, सहरसा, खगड़िया, मधेपुरा तथा मधुबनी में में बारिश सामान्य रही है। पांच जिले भभुआ, बक्सर, औरंगाबाद, नवादा, अररिया और किशनगंज में सामान्य से 60 से 99 फीसदी तक कम बारिश हुई है। 16 जिले जिनमें गया, नालंदा, रोहतास, पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, मुजफ्फरपुर, शेखपुरा, लखीसराय, जमुई, बांका, मुंगेर, बेगूसराय, भागलपुर, कटिहार, पूर्णिया और सुपौल में 20 से 59 फीसदी तक कम बारिश हुई है।
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:In the initial round of the monsoon Bihar is ruth for rain