class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोड्डा से अपहृत शिक्षक डाकबंगला से बरामद

गोड्डा से अगवा कंप्यूटर शिक्षक मो. नवाज (25 वर्ष) को पुलिस ने सोमवार को डाकबंगला चौराहे के समीप एक दुकान के समीप से बरामद कर लिया। वह दुकान में काम कर रहा था। पुलिस का कहना है कि उसे अगवा नहीं किया गया था। वह घर से भाग कर यहां आया था और छिप कर रह रहा था। उसके पिता ने फंसाने के लिए कोर्ट में झूठा केस दर्ज कराया था। कोतवाली डीएसपी डा. मो. शिब्ली नोमानी ने बताया कि मो. नवाज के पिता ने गोड्डा के कोर्ट में उसके अपहरण का केस किया था। बाद में कोर्ट के आदेश पर गोड्डा थाने में छह मई को अपहरण का मामला दर्ज कर लिया गया। मामले में कई लोगों को आरोपी बनाया गया था। पुलिस छानबीन में जुटी तो पता चला कि पटना में डाकबंगला के समीप एक कंप्यूटर की दुकान में नवाज काम कर रहा है। गोड्डा पुलिस की सूचना पर कोतवाली थाने की पुलिस ने सोमवार को उसे दुकान के समीप से बरामद कर लिया। पुलिस उससे पूछताछ कर रही है। हालांकि उसका कहना है कि उसे उसके दोस्त मो. रफी अहमद ने अगवा कर लिया था। वह गोड्डा के बसंतराय थाने के शाहपुर का रहनेवाला है। उसका दोस्त रफी भी उसी गांव का रहनेवाला है। 17 अप्रैल को रफी ने उससे कहा कि मेरी दीदी के घर चलो। इसके बाद मो. नवाज अपनी बाइक से उसके दीदी के घर चला गया। उसका कहना है कि वहां उसे बेहोश कर दिया गया। रफी अपनी भगीनी से शादी कराना चाहता था। इतने दिनों तक उसे कहां रखा गया। इसका वह सही-सही जवाब नहीं दे पाया। उसका कहना है कि वह गोड्डा के ही मौलाना अब्दुल कलाम कॉलेज में कंप्यूटर का शिक्षक है। सोमवार को अपहरणकर्ता उसे पटना लाए थे। यहां लाने के बाद उसे कहीं और ले जा रहे थे तभी वह उनके चंगुल से निकल भागा।
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:hijacked teacher rescued from Patna
युवा मंच का गठनबीसीईसीई की परीक्षा में पिछड़े वर्ग के छात्रों का जलवा