class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

VIDEO: उत्तर बिहार में बाढ़ का रौद्र रूप, महानंदा खतरे के निशान से ऊपर

तबाही: उत्तर बिहार में बाढ़ का रौद्र रूप, पूर्णिया में महानंदा खतरे के पार

1/3तबाही: उत्तर बिहार में बाढ़ का रौद्र रूप, पूर्णिया में महानंदा खतरे के पार

उत्तर बिहार के जिलों में तेज बरसात और नेपाल के पानी से आई बाढ़ से त्राहिमाम की स्थिति बन गई है। पूर्णिया में नदी महानंदा खतरे के पार पहुंच चुकी है। यहां महानंदा नदी खतरे के पार पहुंच चुकी है। महानंदा 37.6 मीटर की ऊंचाई पर बह रही है। जबकि खतरे का निशान 35.65 मीटर माना गया है।

बेतिया, मधुबनी, मोतिहारी और सीतामढ़ी के कई गांवों से लोग पलायन कर रहे हैं। नरकटियागंज के पंडई नदी में बाढ़ के कारण भितिहरवा के कई घर डूब गए हैं। यहां के कस्तूरबा गांधी विद्यालय में 7 फुट पानी घुस गया है। ट्रैक पर पानी होने से रेल परिचालन भी बाधित है। बिहार संपर्क क्रांति एक्सप्रेस का मार्ग बदल दिया गया है।

पानी के कारण शिवहर और सीतामढ़ी के कई गांवों का संपर्क जिला मुख्यालय से कट गया है। मुजफ्फरपुर के औराई और कटरा प्रखंड में भी बागमती ने रौद्र रूप धारण कर लिया है।मोतिहारी के सिकरहना अनुमंडल के ढाका में लालबकेया नदी का गुआबारी तटबंध शनिवार की देर शाम ध्वस्त हो गया। बांध ध्वस्त होने से दर्जनों गांव बाढ़ से घिर गए हैं। लोग गांव से पलायन कर ऊंचे जगहों की ओर कूच करने लगे हैं। बाढ़ से क्षेत्र की स्थिति भयावह होती जा रही है।

कुण्डवाचैनपुर व गुरहनवा रेलवे स्टेशन के बीच रेल ट्रैक पर पानी बहने से रेल प्रशासन ने एहतियातन सीतामढ़ी-रक्सौल रेल खंड पर ट्रेनों का परिचालन रोक दिया है। इस कारण कुण्डवाचैनपुर स्टेशन पर रक्सौल-सिकन्दराबाद ट्रेन सुबह 9 बजे से खड़ी है। वहीं रक्सौल में तिलावे नदी का बांध शनिवार सुबह ध्वस्त होने से दर्जनों गांव बाढ़ से घिर गए हैं।

Next
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:floods in rivers in north bihar water Many villages immersed
खनन विभाग द्वारा बालू निकासी कराये सरकार: मालेमुकेश के अंतिम संस्कार में उमड़ा सैलाब, नहीं पहुंची पत्नी