class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ड्रोन की मदद से होगा नक्सलियों पर वार

खुफिया सूचना के साथ ही नक्सलियों के ठिकानों का पता लगाने के लिए ड्रोन की मदद ली जाएगी। ड्रोन का इस्तेमाल कर नक्सलियों के ठिकाने ढूंढे जाएंगे और फिर उन्हें ध्वस्त किए जाएंगे। शुक्रवार को नक्सलियों के खिलाफ अभियान को लेकर 205 कोबरा मुख्यालय, बरवाडीह, गया में सीआरपीएफ अधिकारियों की बैठक में कई महत्वपूर्ण फैसले हुए।

सीआरपीएफ बिहार सेक्टर के आईजी एमएस भाटिया ने बैठक के दौरान अधिकारियों को नक्सलियों के खिलाफ आक्रमक ऑपरेशन चलाने और शीर्ष कमांडरों की घेराबंदी को लेकर रणनीति पर बात की। नक्सलियों के झारखंड में बिहार के बार्डर के पास होने की सूचना पर भी इस दौरान चर्चा हुई। नक्सली किसी बड़ी वारदात को अंजाम न दे सकें, इसके लिए दोनों राज्यों की सीमा के आसपास सघन ऑपरेशन चलाने का निर्देश दिया गया।

बैठक में तय हुआ कि किसी भी सूरत में बिहार-झारखंड के सीमावर्ती इलाकों में नक्सलियों को फिर से पैर जमने नहीं दिया जाएगा। वहीं आमलोगों में सुरक्षाबलों के प्रति विश्वास जगाने के लिए ज्यादा से ज्यादा नक्सल विरोधी अभियान में हासिल करने का लक्ष्य रखा गया। इस दौरान आईईडी से बचने के उपाय पर जोर देते हुए नक्सल प्रभावित क्षेत्र में खुफिया तंत्र को मजबूत करने का फैसला लिया गया। बिहार में तैनात सभी सीआरपीएफ और कोबरा बटालियन के कमांडेंट और उच्च अधिकारी मौजूद थे।

इसके बाद एक कार्यक्रम के दौरान आईजी एमएस भाटिया ने वर्ष 2016-17 में परिचालनिक और प्रशासनिक उपलब्धियों को प्राप्त करने में अतुलनीय योगदान देने वाले सीआरपीएफ और बिहार पुलिस के अधिकारियों व जवानों को सीआरपीएप के महानिरीक्षक प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया।

सीआरपीएफ की 159 व कोबारा की 205 बाटालियन को ट्रॉफी

पूरे देश में तैनात सीआरपीएफ की कुल 236 बटालियन एवं कोबरा कि कुल 10 बटालियन में बिहार सेक्टर की 159 बटालियन और 205 कोबरा को अखिल भारतीय स्तर पर सर्वश्रेष्ठ बटालियन ट्रॉफी से नवाजा गया। इसकी घोषणा रैपिड एक्शन फोर्स के रजत जयंती सामारोह पर की गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:CRPF will take help of drone in Operation against Naxal
तनाव रोकने में विफल अफसरों पर हो कार्रवाई : राजदविधायकों की संपत्ति जब्त हो : पप्पू