class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिजली सब-स्टेशन बनाने का काम समय पर नहीं

सूबे में बिजली सब-स्टेशन बनाने की योजना की गति धीमी है। इस साल कंपनी ने 76 सब-स्टेशन का कार्य पूरा करने का लक्ष्य रखा है। ढाई महीने बीत गए, लेकिन अब तक एक भी निर्माण कार्य पूरा नहीं हो सका है। राज्य में पावर सब-स्टेशन बनाने का काम लंबे समय से चल रहा है। कुछेक सब-स्टेशन ऐसे भी हैं जो दसवीं व ग्यारहवीं पंचवर्षीय योजना में ही मंजूर हुए थे। इनमें से 76 पावर सब-स्टेशन को इस वर्ष पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। अप्रैल से जून के बीच चार पावर सब-स्टेशन का निर्माण पूरा करने का लक्ष्य तय किया गया था। ढाई महीने बीत गए, लेकिन इनमें एक भी पूरा नहीं हो सका है। बरसात अवधि में जुलाई से सितम्बर के बीच 11 सब-स्टेशन निर्माण का लक्ष्य तय किया गया है। बाकी छह महीने में तीसरी तिमाही में 23 तो अंतिम यानी चौथी तिमाही में 38 पावर सब-स्टेशन निर्माण पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। लेकिन जिस तरीके से चार सब-स्टेशन का निर्माण पहली तिमाही में पूरा नहीं हुआ, उसमें बाकी अवधि में सभी कार्य समय पर पूरा हो जाए, इसमें संदेह है। मिलेगी गुणवत्तापूर्ण बिजली : कंपनी अधिकारियों के अनुसार सब-स्टेशनों की दूरी कम होने से ट्रिपिंग व अन्य तकनीकी खामियां कम हो जाती हैं। अनुमान के अनुसार एक पावर सब-स्टेशन से लगभग 50 हजार उपभोक्ताओं को गुणवत्तापूर्ण बिजली मिलने लगेगी। इस हिसाब से अगर सभी 76 सब-स्टेशन बन जाएं तो लगभग 38 लाख उपभोक्ताओं को गुणवत्तापूर्ण बिजली मिलेगी।
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Construction of electricity sub-stations is not timely
राष्ट्रपति उम्मीदवार बनने पर कोविंद से मिले सीएम नीतीश बोले ,अपना सम्मान प्रकट करने के लिए मैं उनसे मिलासीएम ने राहुल गांधी को दी जन्मदिन की बधाई