class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अंडा-मछली उत्पादन में आत्मनिर्भर बनेगा बिहार

अंडा-मछली उत्पादन में आत्मनिर्भर बनेगा बिहार

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि अंडा और मछली के उत्पादन में बिहार को स्वावलंबी बनाना है ताकि दूसरे राज्यों से अंडा-मछली मंगाने की जरूरत नहीं हो। इसको लेकर सभी आवश्यक योजना बनाएं और उसका कार्यान्वयन करें। पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग की समीक्षा बैठक में उन्होंने अंडा उत्पादन में वृद्धि के लिए बड़े स्तर पर निजी क्षेत्रों की सहभागिता से अधिक से अधिक संख्या में हैचरी एवं लेयर फॉर्म स्थापित करने को कहा। उन्होंने निर्देश दिया कि राज्य के पशुपालकों को उत्कृष्ट पशु चिकित्सा सेवा उपलब्ध कराएं। पशु कल्याण एवं पशु क्रूरता निवारण के लिए गोशालाओं में पशुओं के रखरखाव के लिए अनुदान की राशि की व्यवस्था विभाग स्तर पर की जाए। इसके लिए पटना स्थित श्रीकृष्ण गोशाला को मॉडल गोशाला की तर्ज पर विकसित करें। केन्द्रीय योजनाओं में टॉपअप सब्सिडी आवश्यकतानुसार देने को कहा। फिश फेडरेशन बनाने के संबंध में जिला सतर पर भी यूनियन बनाने का निर्देश दिया। मुख्यमंत्री ने बोरिंग पम्प सेट योजना के लिए तालाब क्षेत्र का मानक वर्तमान में पांच एकड़ को कम से कम करने का निर्देश दिया। प्रयोग के बाद इसका मानक निर्धारित हो ताकि मत्स्य कृषकों को सालो भर तालाब में जल उपलब्ध हो सके। महिला सशक्तीकरण के लिए अलंकारी मछली पालन योजना को प्रभावी ढंग से क्रियान्वित करने को कहा। मुख्यमंत्री ने उतर-पूर्वी राज्यों में कम्फेड द्वारा की जा रही टेट्रा पैक दूध की बिक्री की सराहना की एवं आंतरिक बाजार में छोटे पैक में मिल्क पाउडर एवं उत्तर-पूर्वी राज्यों में टेट्रा पैक के बाजार विस्तार करने को कहा। प्रबंध निदेशक कम्फेड द्वारा बताया गया कि बिहारशरीफ डेयरी परियोजना नालंदा में आगामी वर्षों में छोटे टेट्रा पैक में छाछ, लस्सी, फ्लेवर्ड मिल्क फ्रूट जूस एवं अन्य उत्पाद जैसे बोतलबंद पानी, सलील सुधा के नाम से लाने की योजना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bihar will be self reliant in the production of egg and fish
बिहार बाढ़: हेल्पलाइन नंबर जारी, यहां करें कॉल तो मिलेगी मदद15 अगस्त को बदली रहेगी शहर की यातायात व्यवस्था