class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सहरसा से जुड़ा सृजन घोटाले के तार, 50 लाख रुपये ब्याज का गबन

special team from patna investigate in saharsa for srijan scam

विशेष भूअर्जन कार्यालय सहरसा में सृजन घोटाले से जुड़े तार की जांच करने शनिवार की दोपहर पटना से विभागीय अधिकारियों की टीम पहुंची। जल संसाधन विभाग के अपर सचिव सह निदेशक व विशेष भूअर्जन शाखा के नियंत्री अधिकारी गोरखनाथ के नेतृत्व में पहुंची टीम ने कई घंटे तक एक-एक कर बैंक चेक और कागजात को खंगाला। 


जांच में उन्होंने पकड़ा कि विशेष भूअर्जन कार्यालय सहरसा की सरकारी राशि 151 करोड़ रुपए वर्ष 2012-13 में बैंक ऑफ बड़ौदा भागलपुर के खाते से सृजन विकास सहयोग समिति लि. के खाते में ट्रांसफर कर दिए गए थे, जिन्हें अप्रैल 2015 में विशेष भूअर्जन कार्यालय के सहरसा में खुल चुके बैंक ऑफ बड़ौदा के लोकमान खाता (पीडी) में ट्रांसफर करा लिया गया था। टीम में शामिल सहरसा के विशेष भूअर्जन पदाधिकारी राजकुमार गुप्ता ने बताया कि वर्ष 2012-13 में सहरसा के विशेष भूअर्जन पदाधिकारी कृष्ण कुमार थे।

जब मैंने योगदान दिया तो भागलपुर के बड़ौदा बैंक में जमा 98 करोड़ और 62 करोड़ कुल राशि का ट्रांसफर सहरसा के बड़ौदा बैंक में करा लिया। अब भागलपुर में पकड़ाए मामले के बाद पता चला कि विशेष भूअर्जन कार्यालय सहरसा की 151 करोड़ की सरकारी राशि को भी 2012-13 में सृजन के खाते में ट्रांसफर करा दिया गया था। इसके बाद जांच की जा रही कि सृजन के खाते में क्या बैंक ऑफ बड़ौदा ने 151 करोड़ राशि ट्रांसफर की थी या तत्कालीन विशेष भूअर्जन पदाधिकारी या किसी अन्य ने चेक काटकर राशि ट्रांसफर की थी ?

उन्होंने कहा कि अभी तक की जांच में आलाधिकारियों ने पकड़ा है कि 50 लाख सूद की राशि का गबन किया गया है जिसे बैंक ऑफ बड़ौदा भागलपुर से वसूला जाएगा। साथ ही बैंक ऑफ बड़ौदा से विभाग को इश्यू दो में से एक चेक नहीं देने को शक के घेरे में लेते हुए इस बिन्दु पर भी बैंक की भूमिका की जांच की जा रही है। वर्ष 2013 में  विभाग के बंद एक सेविंग खाते की भी जांच की जा रही है।  

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:srijan scam link up with saharsa, fraud of interest of rupees 50 lakhs
भागलपुर में 'सृजन घोटाला' में गिरफ्तार सात लोगों की कोर्ट में पेशी, भेजा जेलसुपौल में बोले शरद, महागठबंधन टूटने से कार्यकर्ताओं व जनता को पहुंची चोट