class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुपौल में बोले शरद, महागठबंधन टूटने से कार्यकर्ताओं व जनता को पहुंची चोट

Nitish kumar sharad yadav

राज्यसभा सदस्य और जदयू के बागी नेता शरद यादव ने कहा है कि महागठबंधन टूटने से जदयू कार्यकर्ताओं के साथ-साथ जनता को भी चोट पहुंची है। लोकतंत्र में जनता मालिक होती है। जनता ही प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, विधायक, सांसद यहां तक कि मुखिया को चुनती है। श्री यादव अपने तीन दिवसीय दौरे के क्रम में शनिवार को सुपौल के लोहियानगर चौक पर कार्यकर्ताओं और आमलोगों को संबोधित कर रहे थे। 


श्री यादव ने जनता और कार्यकर्ताओं को समझाया कि 20 महीने पहले हम एनडीए के मैनिफेस्टो के खिलाफ चुनाव में उतरे थे। जनता ने हमपर विश्वास किया। नीतीश कुमार और लालू प्रसाद अलग-अलग चुनाव प्रचार करते रहे। हमने 15 दिन कैंप कर कोसी के चप्पे-चप्पे से महागठबंधन के लिए वोट मांगे। हमपर विश्वास कर जनता ने अपना ईमान और वोट पांच साल के लिए हमको दिया।

अब अचानक से महागठबंधन तोड़कर उनके साथ सरकार बना लेना जिनके खिलाफ हमने चुनाव लड़ा था, जनता के साथ वादाखिलाफी है। सांसद शरद यादव ने कहा कि आनेवाला समय और कठिनाइयों से भरा होगा लेकिन हमें एकजुट रहना है, महागठबंधन को मजबूत बनाना है।


राजद ने किया गर्मजोशी से स्वागत : जैसा पहले से अंदेशा था सुपौल जिले में प्रवेश करते ही राजद कार्यकर्ताओं ने सांसद शरद यादव का गर्मजोशी से स्वागत किया। जहां कहीं भी शरद यादव के छोटे-मोटे कार्यक्रम हुए हर जगह राजद कार्यकर्ताओं और नेताओं ने ही उनकी अगवानी और स्वागत किया।

सुपौल में स्थानीय जदयू कार्यकर्ता नजर नहीं आए। यह अलग बात है कि मधेपुरा और सहरसा जिले के लगभग 12 जदयू नेता शरद यादव के आसपास देखे गए। सांसद श्री यादव के साथ पूर्व आपदा मंत्री प्रो.  चंदशेखर, जदयू नेता रमई राम, राजद विधायक यदुवंश यादव, पूर्व जदयू एमएलसी विजय वर्मा सहित कई राजद कार्यकत्र्ता थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:sharad yadav visited in supaul, questioned on nitish decision
सहरसा से जुड़ा सृजन घोटाले के तार, 50 लाख रुपये ब्याज का गबनछातापुर के भाजपा विधायक नीरज कुमार बबलू से मांगी पांच करोड़ रंगदारी